भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

दुनियाभर में करीब दो सौ सफेद बाघ हैं। इनका कुनबा बढ़ाने पर वैश्विक स्तर पर प्रयास किए जा रहे हैं। भिलाई इस्पात संयंत्र स्टील के साथ सफेद बाघों का भी कुनबा बढ़ाने में जुटा हुआ है। देश के प्रमुख जू और जंगल सफारी में मैत्रीबाग के व्हाइट टाइगर दहाड़ रहे हैं। अब तो डॉक्यूमेंट्री तक बननी शुरू हो गई।

मध्य प्रदेश में 40 साल बाद सफेद बाघ की रौनक मैत्रीबाग की वजह से लौटी। पिछले चार साल में चार सफेद बाघ मध्य प्रदेश सरकार को दिए जा चुके हैं। मुकुंदपुर जंगल सफारी रीवां और इंदौर जू में मैत्रीबाग की निशानी है। जंगल सफारी ने एक डॉक्टयूमेंट्री तैयारी की है। इसमें रघु और राधा की अटखेलियों का दृश्य दर्शाया गया है। इसे मध्य प्रदेश की शान बताते हुए रीवां की रियासत का जिक्र किया गया है। करीब तीन मिनट की डॉक्यूमेंट्री का वीडियो तेजी से वायरल हुआ।

बीएसपी कर्मचारी संदीप नायडू ने शनिवार रात इसे भिलाई इस्पात संयंत्र के कार्मिकों के कई वाट्सएप ग्रुप पर शेयर किया। दावा किया गया कि यह डॉक्यूमेंट्री का वीडियो कहीं से लीक हुआ है। पूरी वीडियो में भिलाई इस्पात संयंत्र का कहीं भी नाम नहीं लिया गया है। लेकिन मैत्रीबाग के बाघ रघु का नाम आते ही कार्मिक उत्साहित हो गए।

साल 2015 में सबसे पहले सफेद बाघ रघु और बाघिन राधा को मैत्रीबाग से भेजा गया था। लेकिन वीडियो में राधा के नाम के स्थान पर विद्या का जिक्र हुआ है। अधिकारियों का कहना है कि मध्य प्रदेश को मैत्रीबाग ने ही सफेद बाघ दिया था। डॉक्यूमेंट्री बनाने से पहले कई बार शेरों के बारे में जानकारी तक मैत्रीबाग से ली गई थी। लेकिन एक बार भी कहीं नाम न लेने पर सवाल उठाए जा रहे हैं।

मुफ्त में ले गए शेर, नाम तक नहीं लिया

मैत्रीबाग के सफेद शेरों की रखवाली करने वाले कर्मचारी काफी भावुक हो गए हैं। रघु-राधा औ सोनम-गोपी को खाना खिलाने वाले कर्मचारियों का कहना है कि डॉक्यूमेंट्री में मैत्रीबाग का जिक्र होना चाहिए था। मध्य प्रदेश की शान जिसे बताया जा रहा है, वह तो मैत्रीबाग की धड़कन थी। मुफ्त में चारों सफेद बाघ दिए गए हैं। बताया जा रहा है कि भारत में शेरों की खरीद-बिक्री प्रतिबंधित हैं। एक्सचेंज ही हो सकते हैं। लेकिन मध्य प्रदेश से इन चारों बाघों के बदले कुछ भी नहीं लाया गया है।

जानिए मुकुंदपुर जू और इंदौर को कब-कब दिया सफेद बाघ

पांच अप्रैल 2018

गोपी (सुंदर और कमला से जन्मा)

सोनम (सतपुड़ा और गंगा से जन्मा)

पांच दिसंबर-2015

रघु (सतपुड़ा और गंगा से जन्मा)

राधा (सतपुड़ा और गंगा से जन्मा)

27 नवंबर 2014

रंजन को इंदौर जू भेजा (सतपुड़ा और गंगा से जन्मा)

मैत्रीबाग के लिए गर्व की बात

भिलाई इस्पात संयंत्र के मैत्रीबाग ने मुकुंदपुर जंगल सफारी को चार और इंदौर को एक सफेद बाघ दिया है। डॉक्यूमेंट्री को देखा। मैत्रीबाग के लिए गर्व की बात है। यहां के सफेद बाघ मध्य प्रदेश की शान बन चुके हैं।

-डॉ. नवीन कुमार जैन, प्रभारी-मैत्रीबाग

Posted By: Nai Dunia News Network