भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

बीएसपी सहित सेल इकाइयों के रिटारयर कार्मिकों को नवंबर या दिसंबर से पेंशन का लाभ मिलना शुरू हो जाएगा। एसईएसबीएफ की 40वीं बोर्ड ऑफ ट्रस्टी की बैठक में इसका संकेत दिया गया है। पेंशन के मुद्दे पर सबसे ज्यादा चर्चा हुई। प्रबंधन ने सदस्यों को बताया कि पेंशन मद को सरकार से टैक्स में छूट मिल गई है। साथ ही रिटायर कार्मिकों का डाटा कम्प्यूटराइज्ड हो चुका है। इसकी जांच कोई भी कर सकता है। अब उम्मीद है कि नवंबर या दिसंबर में पेंशन शुरू हो जाएगी।

एसईएसबीएफ की 40वीं बोर्ड ऑफ ट्रस्टी की बैठक ट्रस्ट के सचिव गौतम भाटिया, मुख्य महाप्रबंधक प्रभारी (पर्सनल) कारपोरेट दिल्ली के अध्यक्षता में इस्पात भवन कोलकाता में संपन्ना हुई। बैठक के मुख्य विषय 24 अप्रैल 2019 को 38वीं और नौ जुलाई 2019 को 39वीं बैठक के मिनट्स का कन्फर्मेशन करना, एसइएसबीएफ के ट्रस्टी मैनेजिंग ट्रस्टी में परिवर्तन की स्वीकृति थी।

इसके अलावा 30 सितंबर 2019 की स्थिति में एसइएसबीएफ के इन्वेस्टमेंट का स्टेटस के साथ ही फाइनेंशियल ईयर 2018-19 अकाउंट्स का ऐड ऑप्शन, 2019-20 के लिए ऑडिटर की नियुक्ति पर चर्चा की गई। साथ ही यूपी को-ऑपरेटिव स्पिनिंग मिल्स लिमिटेड में ट्रस्ट का पैसा इन्वेस्ट है, काफी समय से वापसी नहीं हो रही है। इस संदर्भ में प्रगति की जानकारी के साथ ही चर्चा करना था।

यूपी से जल्द पैसा वापस मिलने की उम्मीद

2019-2020 के लिए पुनः मेजर्स मेहरोत्रा एंड मेहरोत्रा चार्टर्ड अकाउंटेंट्स को ऑडिटर नियुक्त किया गया। यूपी को-ऑपरेटिव स्पिनिंग मिल्स में इंवेस्ट धन के संबंध में सेफी चेयरमैन नरेंद्र कुमार बंछोर ने जानकारी दी कि उत्तर प्रदेश के संबंधित उच्चाधिकारियों से सकारात्मक चर्चा हुई है। जल्द ही परिणाम आने का अंदेशा है।

सलेक्ट के बाद प्रोवाइडर नहीं बदल सकते

बैठक में भिलाई से बीएमएस का प्रतिनिधित्व एसइएसबीएफ सेल के ट्रस्टी एवं यूनियन के महामंत्री दिनेश कुमार पांडेय ने किया।

बीएमएस यूनियन एवं सेफी ने संयुक्त रूप से पेंशन का मुद्दा उठाया। प्रबंधन की तरफ से जानकारी दी गई कि शीघ्र अतिशीघ्र पेंशन भुगतान की तारीख डिक्लेअर कर दी जाएगी।

पेंशन भुगतान के पूर्व जो भी संबंधित कार्यवाही होती है, उसे पूर्ण कर ली गई है। टैक्स का एक्सेंप्शन ले लिया गया है।

इसके साथ ही पेंशन योग्य सेवानिवृत्त कर्मचारियों के साथ ही सेवारत कर्मचारियों के सभी रिलीवेंट डाटा को कलेक्ट करने का कार्य पूरा हो चुका है।

विभागवार एवं प्लांट के इकाई वार इसे कंप्यूटराइज कर दिया जाएगा ताकि कर्मचारी एन्यूटी प्रोवाइडर चुनने के पूर्व अपने समस्त फीड किए गए डाटा का मिलान कर सकें।

इसके बाद गंभीरता से एन्वटी प्रोवाइडर सिलेक्ट कर सकें। एक बार एनिविटी प्रोवाइडर्स सिलेक्ट करने के पश्चात उसमें किसी भी प्रकार का परिवर्तन नहीं हो सकेगा।

कुछ अफसर वीडियो कांफ्रेंसिंग से जुड़े

बैठक में भिलाई से सेफी के चेयरमैन, एसइएसबीएफ के मैनेजिंग ट्रस्टी नरेंद्र कुमार बंछोर, बीएमएस के महामंत्री दिनेश कुमार पांडेय के अलावा सेल मुख्यालय से अधिकारी, विभिन्ना इकाइयों से यूनियन के प्रतिनिधि के साथ ही विभिन्ना इकाइयों के ईडी स्तर के अधिकारी वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक बैठक में शामिल हुए।

Posted By: Nai Dunia News Network