भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

भिलाई निगम में नामांतरण का एक केस पहुंचा। तत्कालीन राजस्व अधिकारी ने प्रकरण में संलग्न प्रापर्टी टैक्स की रसीद को पकड़ लिया। इसकी शिकायत भी हुई, लेकिन कार्रवाई ठंडे बस्ते में चली गई। अब प्रभारी आयुक्त तक पुनः शिकायत पहुंची तो उन्होंने टैक्स से संबंधित फाइल मंगाई है।

दरअसल मामला फर्जी प्रापर्टी टैक्स की रसीद काटने वाला गिरोह का है। भिलाई में जाने ये कब से चल रहा है। लोगों के पास जब अधिभार सहित टैक्स पटाने की दोबारा सूचना आती है, तब पता चलता है कि उनको कोई चूना लगा गया। बताया जा रहा है कि फर्जी रसीद काटने वाला गिरोह कोई बाहर का नहीं है अलबत्ता निगम के ही कर्मचारी हैं। तीन लोगों के नाम का नामजद बयान भी भिलाई नगर निगम के पास दर्ज है। शुक्रवार को राजस्व अधिकारी व प्रभारी आयुक्त अशोक द्विवेदी के पास जब यह मामला पहुंचा तो उन्होंने टैक्स से संबंधित फाइल मंगाई। बताया जा रहा है कि फाइल अभी तक राजस्व अधिकारी के पास नहीं पहुंची है। द्विवेदी ने इस मामले में तल्ख रुख अख्तियार किया है। उन्होंने संबंधितों पर एफआईआर दर्ज कराने की हिदायत भी दी है।

ऐसे खुला मामला

वार्ड-9 कोहका निवासी दलजीत कौर जमीन का नामांतरण कराने निगम पहुंची थी। जमीन के साथ दस्तावेज की जांच के दौरान तत्कालीन राजस्व अधिकारी एचके चंद्राकर की नजर रसीद पर पड़ी। रसीद पर नगर पालिक निगम भिलाई की जगह नगर पालिका निगम भिलाई लिखा था। पालिक व पालिका में अंतर समझते ही राजस्व अधिकारी ने बता दिया कि यह फर्जी रसीद है। दलजीत कौर से 43 हजार 240 रुपये का टैक्स लिया गया था।

वृंदा नगर में भी पकड़ा गया था मामला

इसी तरह का एक मामला वृंदा नगर वार्ड-21 में भी पकड़ा गया था। वार्ड के पार्षद व एमआईसी सदस्य दिवाकर भारती के पास यह मामला पहुंचा था। उन्होंने फौरन इसकी शिकायत भिलाई निगम के तत्कालीन आयुक्त के पास दर्ज कराई थी। उसी दौरान यह आशंका जताई गई थी कि निगम के ही कुछ कर्मचारी फर्जी रसीद बुक के माध्यम से प्रापर्टी टैक्स वसूल रहे हैं। एक तरह से यह लोग गिरोह की तरह काम कर रहे हैं।

आप रहें सावधान, ये जरूर देखें

आप यदि प्रापर्टी टैक्स जमा करते हैं तो सावधान रहिए। ये याद रखिए कि 2018 से भिलाई निगम टैक्स की कम्प्यूटराइज्ड रसीद देता है। हालांकि कहीं-कहीं पर हाथ से लिखकर रसीद दिया जा रहा है, लेकिन इसमें भी नगर पालिक निगम भिलाई लिखा होता है। यदि कोई नगर पालिका निगम भिलाई लिखकर रसीद देता है तो आप सतर्क हो जाइए। वार्ड के पार्षद से फौरन इसकी शिकायत कीजिए।

वर्सन

1.जांच की मांग

तीन लोगों के नाम से शिकायत हुई है। भिलाई में फर्जी रसीद से टैक्स वसूला जा रहा है। इसकी जांच होनी चाहिए।

- अली हुसैन सिद्दीकी, शिकायतकर्ता, भिलाई

अपराध दर्ज करवाएंगे

मामला प्रोसेस में है। मैंने संबंधित फाइल तलाशने को कहा है। फाइल नहीं मिलने की बात कही जा रही है। इसकी जांच होगी और दोषियों पर अपराध भी दर्ज कराया जाएगा।

-अशोक द्विवेदी, प्रभारी आयुक्त व राजस्व अधिकारी, नगर निगम भिलाई

Posted By: Nai Dunia News Network