भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

सरकार और तमाम संगठन बेटे और बेटी में फर्क न करने की दलील दे रहे हैं, लेकिन महिला थाने में एक ऐसा मामला सामने आया है। जिसमें आरोपित ससुरालियों ने बेटा पैदा न होने के कारण विवाहिता को घर से निकाल दिया। दो बेटियों के जन्म के बाद आरोपितों ने पीड़िता से पैसों की मांग शुरू कर दी। पीड़िता ने समय-समय पर अपने मायके वालों से पैसे मांगकर आरोपितों की मांग पूरी भी की। इसके बाद भी आरोपितों ने पीड़िता को प्रताड़ित करना जारी रखा। इस पर पीड़िता ने महिला थाने में शिकायत की। पुलिस ने दोनों पक्षों के बीच काउंसलिंग कराई, लेकिन समझौता न होने पर पति समेत चार आरोपितों के खिलाफ अपराध दर्ज किया।

महिला थाना प्रभारी योगिता खापर्डे ने बताया कि शिक्षक नगर कोहका निवासी प्रार्थिया का निकाह नौ फरवरी 2014 को करोना चौक सदर बाजार बिलासपुर निवासी आरोपित सैय्यद मुबश्शिर अली से हुआ था। शादी के बाद पीड़िता अपने ससुराल गई और उसे पहली बेटी हुई। बेटी होते ही आरोपित पति सैय्यद मुबश्शिर अली, ससुर सैय्यद माजिद अली, सास फरहत कौसर और ननंद मरिया समीन अली ने उसे प्रताड़ित करना शुरू कर दिया। पीड़िता ने आरोप लगाया कि आरोपित ससुराल वाले उसे बेटी के साथ रात में घर से बाहर निकाल देते थे। वो दरवाजा पीटती, रोती तब भी दरवाजा नहीं खोलते थे। सुबह होने पर उसे घर में घुसने देते थे।

पीड़िता ने पुलिस को बताया कि बेटी के जन्म के बाद आरोपितों ने उसका खर्च उठाने से इनकार कर दिया और उससे मारपीट शुरू कर दी। पीड़िता दोबारा गर्भवती हुई तो आरोपितों ने उसे मायके भेज दिया। यहां पर उसने फिर से एक बेटी को जन्म दिया तो आरोपित और ज्यादा नाराज हो गए। अपना परिवार बचाए रखने के लिए पीड़िता अपनी बेटियों के साथ अपने ससुराल गई तो आरोपितों ने उससे मारपीट शुरू कर दिया। बेटियों की पढ़ाई और बाकी के खर्च के लिए मायके से पैसे लाने के लिए कहा जाने लगा। इस पर पीड़िता अपने मायके में बोलती तो उसके परिजन उसके खाते में रुपये भी भेजते थे।

जब प्रताड़ना काफी ज्यादा बढ़ गया तो पीड़िता ने 29 मई 2019 को महिला थाना दुर्ग में शिकायत की, लेकिन काउंसलिंग के समय आरोपित पति ने दोबारा दुर्व्यवहार न करने की बात कही और पीड़िता को अपने साथ ले गया। उसे कुछ महीनों तक बिलासपुर में एक किराये के मकान में रखा, लेकिन वहां पर भी उसे ठीक से खाना नहीं देता। जब पीड़िता के सामने भूखों मरने की नौबत आ गई तो उसने अपने भाई को फोनकर बुलाया और भिलाई लौट आई। इसके बाद उसने फिर से महिला थाने में शिकायत की। जिस पर पुलिस ने चारों आरोपितों के खिलाफ अपराध दर्ज किया है।

Posted By: Nai Dunia News Network