भिलाई। नईदुनिया प्रतिनिधि

मध्य भारत के सबसे बड़े सेक्टर-9 अस्पताल में आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज कराने पर फिलहाल ग्रहण लग गया है। दिसंबर 2019 में सेल प्रबंधन ने बीएसपी सहित सेल इकाइयों के 14 अस्पतालों में योजना शुरू करने के लिए एमओयू साइन किया था। कुछ इकाइयों में योजना शुरू भी हो चुकी है, लेकिन भिलाई इस्पात संयंत्र के सेक्टर-9 अस्तपाल में अब तक शुरू नहीं की जा सकी है।

अस्पताल के जिस विभाग को आयुष्मान योजना के लिए सुरक्षित किया गया था, उसी को जिला प्रशासन ने डेंगू के लिए रिजर्व कर दिया है। भिलाई में दो साल पहले डेंगू प्रकोप की वजह से 50 से ज्यादा जिले में मौत हुई थी। मौजूदा समय में कोरोना संक्रमण के चलते मरीजों की संख्या बढ़ी हुई है।

इस वजह से प्रशासन ने आगामी तैयारियों के मद्देनजर सेक्टर-9 हॉस्पिटल को डेंगू के मरीजों के लिए रिजर्व कर दिया है ताकि आपात स्थिति में बेहतर चिकित्सा व्यवस्था के लिए भटकना न पड़े। अस्पताल प्रबंधन का कहना है कि जिला प्रशासन के निर्देश पर इसे रिजर्व किया गया है। फिलहाल, आयुष्मान भारत योजना को लेकर कुछ गतिविधि नहीं चल रही है।

चेस्ट वार्ड को किया था खाली

बता दें कि अस्पताल प्रबंधन ने दिसंबर 2019 में ही चेस्ट वार्ड में भर्ती मरीजों को दूसरे वार्ड में शिफ्ट कर दिया था। यहां खाली हुए वार्ड की रंगाई और मेंटेनेंस का काम किया गया।

चेस्ट वार्ड को खाली कर यहां के मरीजों को एच-0 वार्ड में शिफ्ट किया गया था। स्त्री रोग विभाग के 20 बेड और हड्डी विभाग के 30 बेड वाले वार्ड लंबे समय से खाली थे। इसलिए चेस्ट वार्ड की 18 महिला और 20 पुरुष मरीजों को शिफ्ट कर दिया गया था।

चेस्ट वार्ड बिल्डिंग में ही टीबी और आइसोलेशन वार्ड भी है। उसे फर्स्ट फ्लोर पर शिफ्ट कर अस्पताल प्रबंधन का दावा था कि यहां किसी का आना-जाना नहीं होता। इसलिए यहां इंफेक्शन का भी खतरा नहीं है।

चिकित्सकों की कमी पर अस्पताल का कहना था कि जब तक संविदा पर नए डॉक्टर नहीं आ जाते, तब तक यहीं के चिकित्सक इलाज करेंगे। फिलहाल, सारे दावे और तैयारियों पर विराम लग गया है।

सेल का आयुष्मान योजना के लिए एमओयू

स्टील अथॉरिटी ऑफ इंडिया लिमिटेड (सेल) ने पिछले साल राष्ट्रीय स्वास्थ्य प्राधिकरण भारत सरकार के साथ एमओयू साइन किया था। आयुष्मान भारत प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना के तहत सेल के अस्पतालों में कैशलेस उपचार कराया जाना है। सेल के 14 अस्पताल भिलाई, राउरकेला, बोकारो, दुर्गापुर, बर्नपुर सहित अन्य जगहों पर स्थित हैं। आयुष्मान भारत-प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना भारत की प्रमुख स्वास्थ्य योजना है, जो प्रति वर्ष प्रति परिवार पांच लाख रुपये का कवर प्रदान करती है। इसमें लगभग 50 करोड़ गरीब और कमजोर व्यक्ति शामिल हैं।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

जीतेगा भारत हारेगा कोरोना
जीतेगा भारत हारेगा कोरोना