भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि) राम मंदिर निर्माण के लिए भिलाई के भी युवाओं ने कारसेवा में हिस्सा लिया था, हालांकि कार सेवक सारनाथ (वाराणसी) से आगे नहीं बढ़ पाए, लेकिन अयोध्या तक पहुंचने हर संभव कोशिश की।

भिलाई के वरिष्ठ भाजपा नेता ब्रिजेश बिजपुरिया, योगेंद्र सिंह बताते हैं कि अक्टूबर 1990 में कार सेवा का ऐलान हुआ था। सबको अयोध्या पहुंचने का निर्देश मिला था। लिहाजा 30 अक्टूबर 1990 को ब्रिजेश बिजपुरिया, योगेंद्र सिंह, अशोक मिश्रा, अशोक उपाध्याय, दीपक मिश्रा, अनिल मिश्रा तथा साउथ के कुल 30 लोग एक बस से अयोध्या के लिए रवाना हुए। उस समय उत्तर प्रदेश में मुलायम सिंह यादव की सरकार थी। उन्होंने तय कर रखा था कि किसी भी कारसेवक को अयोध्या पहुंचने नहीं देंगे। उत्तर प्रदेश के 22 जिलों में कर्फ्यू लगा हुआ था।

भिलाई के कारसेवक सतना-रीवा होते हुए 31 अक्टूबर को इलाहाबाद पहुंचे। वहां यूपी पुलिस ने उन्हें रोक लिया। सभी को जौनपुर जेल ले जाया गया। उस दिन जौनपुर में किसी की हत्या हुई थी, शहर में भारी तनाव था। मौका पाकर भिलाई के कारसेवक जौनपुर जेल से भागकर मियापुर पहुंचे। कुम्हारी में आरएसएस कार्यकर्ता प्रहलाद दुबे के परिवार के लोगों ने सबके लिए भोजन पानी का बंदोबस्त किया। वहीं नदी किनारे स्थिति मंदिर में सबको ठहराया गया।

संघ का एक कार्यकर्ता भूमिगत था। ब्रिजेश बिजपुरिया बताते हैं कि हम सबको उनके पास पहुंचना था। एक नवंबर को नदी पार करके खेत ही खेत चलते हुए कार सेवक जौनपुर के दूसरे हिस्से में पहुंचे। 35 किलोमीटर चलने के बाद रात हो चुकी थी। वहां भी एक मंदिर में शरण मिली। मंदिर का पुजारी गांव वालों से मांगकर आटा, चावल व दाल लेकर आए। सबके लिए भोजन बना। दो नवंबर सुबह सबको 25 किलोमीटर दूर शाहगंज पहुंचना था। शाहगंज में एक धर्मशाला में ठहाराया जाना था। हमें दो-चार करके ही धर्मशाला में पहुंचने का निर्देश था। अभी सभी लोग स्नान वगैर कर ही रहे थे कि जाने कैसे पुलिस को भनक लग गई। पुलिस ने धर्मशाला को चारों तरफ से घेर लिया गया। पुलिस ने सभी को गिरफ्तार कर वाराणसी तक लाया गया। वहां से सारनाथ एक्सप्रेस में बैठकर सतना तक लाकर छोड़ दिया गया। भिलाई के कार्यकर्ता अयोध्या पहुंच ही नहीं पाए।

--

दिसंबर 1992 में हजारों की संख्या में पहुंचे कारसेवक

1992 में उत्तर प्रदेश में कल्याण सिंह के नेतृत्व में भाजपा की सरकार थी। 6 दिसंबर को कार सेवा बुलाई गई। उस दौरान भिलाई-दुर्ग के हजारों लोग अयोध्या के लिए रवाना हुए थे। कहीं कोई रोक टोक नहीं थी। सारे कारसेवक अयोध्या पहुंचे थे।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan