भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि)। बीएसपी के तीन श्रमिक नेताओं के ट्रांसफर को लेकर यूनियनों में बड़ी टकराहट होती दिख रही है। खींचतान शुरू हो चुकी है। ट्रांसफर को लेकर मान्यता प्राप्त यूनियन इंटक का नाम आने से नाराजगी बढ़ गई। सीटू ने प्रबंधन को स्पष्ट रूप से बोल दिया है कि वह किसी यूनियन से टकराने वाली नहीं है। ईडी के सामने सीटू के महासचिव एसपी डे बोल चुके हैं कि वह इंटक की बुराई सुनने के लिए बैठक में नहीं आए हैं, लेकिन सीटू के अन्य पदाधिकारियों ने मान्यता प्राप्त यूनियन पर तीर चलाना शुरू कर दिया है।

सिंटरिंग प्लांट के ही कर्मचारियों ने अब बंद जुबान मुद्दा उछाल दिया है। सीटू पदाधिकारियों का कहना है कि मान्यता प्राप्त यूनियन प्रतिनिधि खुद सामने नहीं आ रहे हैं। ज्यादातर प्रतिनिधि जनरल शिफ्ट में ड्यूटी करते हैं, बावजूद वह कर्मचारियों के ट्रांसफर के मुद्दे पर समर्थन नहीं जता सके। एसपी-3 के कर्मचारी भी बड़ी संख्या में विधायक एवं महापौर के सामने मुद्दा उठा चुके। वहां से कोई न्याय नहीं मिल सका। संयंत्र के कुछ यूनियनों ने भी खुलकर इस पर बयान देना शुरू किया है।

सीटू का कहना है कि प्रबंधन के रवैये ने मामले को एक नया मोड़ दे दिया। तमाम मुद्दों को यूनियनों को उठाने के लिए मजबूर कर दिया है। अपने आपसी मतभेदों को भुलाकर इस मुद्दे पर ज्यादातर ट्रेड यूनियन एक रास्ते पर चलने को तैयार हैं। और एक रास्ते पर आते दिख रहे हैं, जो प्रबंधन के लिए चिंता का विषय भी है। इस बाबत इंटक के अतिरिक्त महासचिव संजय साहू का कहना है कि किसी यूनियन से टकराहट नहीं है। कर्मचारियों के साथ हम लोग हैं। किसी का अहित नहीं होने दिया जाएगा।

Posted By:

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

Ram Mandir Bhumi Pujan
Ram Mandir Bhumi Pujan