भिलाई, नईदुनिया प्रतिनिधि। कर्मचारियों की पत्नियों पर बीएसपी का ज्यादा विश्वास है। यकीन के साथ जो बताया जाता है, उस पर अमल करती हैं। पतियों पर नकेल कसती हैं ताकि वे सुरक्षित कामकाज प्लांट में कर सकें। लंबे समय बाद फिर से आप भी जानिए कार्यक्रम शुरू किया गया है।

सुरक्षित कामकाज को बढ़ावा देने और परिवार से प्लांट तक रोकने-टोकने का माहौल बनाया जा रहा है। पत्नियों को प्लांट का दौरा कराया गया। खतरनाक कार्यस्थल को देख पतियों की चिंता घर में पहले से ज्यादा होने लगती है। इसका फायदा बीएसपी उठाती है। कर्मचारियों के व्यवहार में अंतर आता है।

भिलाई इस्पात संयंत्र के आरसीएल के कर्मचारियों की पत्नियों के लिए कार्मिक-यांत्रिकी विभाग द्वारा 'आप भी जानिए' कार्यक्रम के तहत संयंत्र भ्रमण का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम का मुख्य उद्देश्य संयंत्र में कार्मिकों के कार्यक्षेत्र, कार्यप्रणाली एवं माहौल से उनकी पत्नियों को सीधे तौर पर अवगत कराना है। उनके माध्यम से कार्मिकों के परिवारिक वातावरण में गुणात्मक सुधार, सुरक्षा एवं अनुकूल परिस्थिति बनाये रखना है ताकि कार्मिक संयंत्र में हमेशा तनावमुक्त एवं चिंतामुक्त होकर अपना कार्य सुरक्षित एवं बेहतर तरीके से करते रहें।

संयंत्र को ऊंचाइयों पर ले जाने में पत्नियों की भी भूमिका संयंत्र के महाप्रबंधक (गुणवत्ता) वीरेन्द्र धवन इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि रहे। इस अवसर पर उन्होंने कार्मिकों की पत्नियों का स्वागत करते हुए संबोधित किया। उन्होंने कहा कि संयंत्र को इन ऊंचाईयों तक पहुंचाने में कार्मिकों के साथ-साथ उनके परिवार का भी महत्वपूर्ण योगदान है। कार्मिकों को घर से तनावमुक्त खुशहाल एवं सुरक्षित ढंग से अपने कार्यस्थल में भेजने का कार्य पत्नियां ही करती हैं, इसके कारण कार्मिक पूरे उत्साह एवं सुरक्षित तरीके से कार्य संपादित करते हैं। उन्होंने सुरक्षा से संबंधित जानकारी प्रदान करते हुए महिलाओं से सुरक्षित संयंत्र भ्रमण का आग्रह किया।

पत्नियों को करना है बस यह खास काम

इस कार्यक्रम में उपस्थित उप महाप्रबंधक प्रभारी (गुणवत्ता) सत्यप्रकाश ने कार्मिकों के पत्नियों की भूमिका को रेखांकित करते हुए कहा कि वे अपने पति को तनावमुक्त परिस्थिति में कार्यस्थल में भेजें। पति को ड्यूटी भेजते समय हेलमेट, सेफ्टी जूता पहनना और गाड़ी को नियंत्रित गति से चलाने के लिए ध्यान दिलाएं। वहीं कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश डालते हुए उप महाप्रबंधक (कार्मिक-वर्क्स) शीजा मैथ्यू ने परिवार में और कार्मिकों की कार्यशैली में पत्नियों की महत्ता पर प्रकाश डाला।

खतरनाक कार्यस्थल देखकर लौटीं और किया बयां

एचआरडीसी में इस कार्यक्रम के समापन सत्र का आयोजन किया गया। जिसमें उप महाप्रबंधक प्रभारी (गुणवत्ता) सत्यप्रकाश एवं सहायक महाप्रबंधक संजय द्विवेदी ने महिलाओं से रूबरू हुए। उनसे उनके संयंत्र भ्रमण के रोमांचक अनुभव को सुना। अपने रोमांचक पल के अनुभवों को साझा करते हुए कार्मिकों की पत्नियों ने संयंत्र प्रबंधन के प्रति आभार प्रकट करते हुए कहा कि उन्हें पहली बार संयंत्र भ्रमण करने का अवसर मिला है।

इन अफसरों की रही खास भूमिका

आप भी जानिये कार्यक्रम सहायक महाप्रबंधक संजय द्विवेदी के मार्गदर्शन में आयोजित किया गया। इसमें कार्मिक यांत्रिकी विभाग के उप प्रबंधक कौशल कुमार साहू, सहायक प्रबंधक प्रियंका मीना, तनुश्री डे, बी. रामकृष्णन, माया देवांगन, सुरेश देशलहरे, जनक प्रसाद, नीलम शर्मा, मुकेश कुमार सिंह ने संयंत्र भ्रमण एवं व्यवस्था में उल्लेखनीय भूमिका निभाई। उप प्रबंधक कौशल कुमार साहू ने आभार व्यक्त किया। वहीं सहायक प्रबंधक प्रियंका मीना ने संचालन किया।

केंद्री-धमतरी रेलवे लाइन के लिए 544 करोड़ जारी, ट्रैक उखाड़ने का काम अधूरा

Discount on Cars : अक्टूबर-दिसंबर में मिलने वाली कारों पर छूट सितंबर से

Posted By: Nai Dunia News Network