भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कुम्हारी के ग्राम कपसदा अकोला के सामूहिक हत्याकांड के पर्दाफाश के बाद पुलिस ने आरोपितों को रिमांड पर लेकर उनसे पूछताछ की। हत्याकांड के मुख्य आरोपित ने रिमांड के दौरान पुलिस को बताया कि इस कांड में कुछ और लोग भी शामिल हैं। जिसके बाद उन लोगों से भी पूछताछ शुरू कर दी है। पूछताछ के दौरान आरोपित ने एक बार भी नहीं बोला कि उसे अपने किए पर कोई पछतावा है।

वो हमेशा जब्त किए रुपयों को अपने परिवार को दे देने की बात कह रहा था। साथ ही उसने पुलिस को एक और नई जानकारी दी है। जिससे यह पता चल सकता है कि मृतक के पास इतने सारे रुपये कहां से आए थे। आरोपितों से मिली जानकारी के आधार पर पुलिस ने आगे की जांच शुरू की है।

बता दें कि कुुम्हारी के ग्राम कपसदा अकोला में बुधवार की रात एक ही परिवार के चार लोगों भुलानाथ यादव, उसकी पत्नी नेला यादव और दो बच्चों मुक्ता व परमत की निर्मम हत्या कर दी गई थी। घटना की जांच में जुटी पुलिस ने मृतक भुलानाथ यादव के छोटे भाई किस्मत यादव और उसके दो दोस्तों आकाश मांझी और टीकम दास धृतलहरे को गिरफ्तार किया था। तीनों आरोपितों के घर से खून लगे कपड़े बरामद किए गए थे।

वहीं मुख्य आरोपित किस्मत यादव के घर से खून लगे कपड़ों के अलावा घटना में प्रयुक्त हथियार और मृतक के घर से चुराए गए रुपये और जेवर भी मिले थे। इसके बाद पुलिस ने जब उन्हें हिरासत में लेकर पूछताछ की तो आरोपितों ने हत्या करने की बात स्वीकार की। जिसके बाद पुलिस ने उन्हें गिरफ्तार किया था। आरोपितों के खिलाफ हत्या की धारा के तहत कार्रवाई की है।

दो दिन का रिमांड लिया, लेकिन एक ही दिन में भेजा जेल

आरोपितों से पूछताछ के लिए पुलिस ने न्यायालय से दो दिन का रिमांड मांगा था। दो दिन का रिमांड मिलने के बाद भी पुलिस ने आरोपितों के एक दिन बाद ही जेल दाखिल कर दिया। इसके पीछे कारण ये है कि आरोपित किस्मत यादव रिमांड के दौरान पुलिस के लिए सिर दर्द बन गया था। वो ऐसी हरकतें कर रहा था कि उसे थाना में रखना जोखिम भरा था।

इस कारण से उसे और बाकि के दो आरोपितों को अगले दिन ही जेल भेजना पड़ा। हालांकि पूछताछ में आरोपित ने कुछ नई जानकारियां दी हैं। जिसके आधार पर आगे की जांच की जा रही है। आरोपित ने हत्याकांड में कुछ और लोगों के शामिल होने की बात कही है। जिसके आधार पर पुलिस उन लोगों से भी पूछताछ कर रही है।

रिक्रिएशन आफ क्राइम सीन में किस्मत ने किया पहला वार

आरोपितों को रिमांड पर लेने के बाद पुलिस शनिवार की रात को आरोपितों को फिर से घटना स्थल पर लेकर गई। वहां पर आरोपितों ने पुलिस के सामने हत्याकांड का रिक्रिएशन किया। आरोपितों ने बताया कि वे लोग कब बाड़ी पर पहुंचे थे और किस क्रम में हत्याएं कीं। परिवार के चारों सदस्यों पर पहला वार किस्मत ने किया था। उसने खंजर से चारों के गले पर मारा था। जिससे उनके गले की नसें कट गई थी और खून की तेज धार सीधे आरोपितों पर पड़ी थी। इसके बाद बाकि के आरोपितों ने कुल्हाड़ी और सब्बल से वार किया था। पुलिस ने रिक्रिएशन आफ क्राइम सीन की पूरी वीडियो रिकार्डिंग की और उसे साक्ष्य के रूप में न्यायालय में पेश किया जाएगा।

इतने रुपये कहां से आए, उसका स्रोत खोज रही पुलिस

मृतक भुलानाथ यादव के घर पर इतने रुपये कहां से आए? ये अभी तक पता नहीं चल सका है। पुलिस को जानकारी मिली थी कि भुलानाथ अपनी बाड़ी में जुआ का फड़ बैठाता था। वैश्यावृत्ति करवाता था और बाड़ी में होने वाली सब्जियों का व्यापार करता था।

जिससे उसे आमदनी हुई थी और उन्हीं पैसों को उसने जमा कर के रखा था। लेकिन, बरामद किए गए नोट एक ही सीरीज के हैं और उनके सीरियल नंबर भी क्रम से हैं। एक ही सीरीज और सीरियल नंबर के नोट जुआ, वैश्यावृत्ति और सब्जी बेचकर नहीं लाए जा सकते। आरोपित किस्मत यादव ने भी पुलिस को बताया है कि इतने सारे रुपये कहां से आए हैं। अब उसकी जांच की जा रही है। ताकि पता चल सके कि इतने पैसे क्यों दिए गए थे?

आरोपितों से पूछताछ करने के बाद उन्हें जेल दाखिल कर दिया गया है। उन्होंने इस हत्याकांड में कुछ और लोगों के शामिल होने की जानकारी दी है। उसके आधार पर पूछताछ की जा रही है। रुपये के स्रोत के बारे में भी पता लगाया जा रहा है।

-कौशलेंद्र देव पटेल, सीएसपी छावनी

Posted By: Pramod Sahu

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close