Bhilai News: टी.सूर्याराव. भिलाई। भिलाई स्टील प्लांट को केंद्र की मोदी सरकार बेचना चाहती है। जिसका छत्तीसगढ़ में हर स्तर पर विरोध होगा। हम किसी भी कीमत पर भिलाई स्टील प्लांट को बिकने नहीं देंगे। भिलाई स्टील प्लांट के कारण भिलाई की देश में अपनी अलग पहचान है। रविवार को महंगाई के विरोध में भिलाई से शुरू हुई जन जागरण पदयात्रा का समापन 29 नवंबर को कोंडागांव में होगा।

रविवार को भिलाई में निकाली गई पदयात्रा के समापन अवसर पर छावनी थाना स्थित लाल मैदान में आयोजित एक सभा को संबोधित करते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि नेहरू के सपनों का मिनी भारत के रूप में पूरे देश में अपनी अलग पहचान बना चुके भिलाई के नाम को मोदी सरकार मिटाना चाहती है। केंद्र सरकार द्वारा भिलाई इस्पात संयंत्र को बेचने का प्रयास किया जा रहा है।

जिसका छत्तीसगढ़ में हर स्तर पर विरोध किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने सभा में उपस्थित सभी लोगों का हाथ उठाकर इसके लिए उनसे समर्थन भी मांगा। उन्होंने कहा कि भिलाई में हर प्रदेश के लोग निवास करते हैं । यहां पर भारत की अनेकता में एकता देखी जा सकती है। उन्होंने कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों ने मेहनत करके इसे लाभ का प्लांट बनाया है। अब मोदी सरकार इसे बेचकर अपना खजाना बनना चाहती है। जिसे हम होने नहीं देंगे।

मुख्यमंत्री से बात करने इस्पात मंत्री के पास समय नहीं है

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों के वेतन समझौते के बाद उसे कर्मचारियों के लिए लागू करने के लिए केंद्रीय इस्पात मंत्री आरसीपी सिंह के पास समय नहीं है । उन्होंने कहा कि मैंने केंद्रीय इस्पात मंत्री से बात करने के लिए कई बार प्रयास किया, लेकिन उनके द्वारा एक मुख्यमंत्री से बात नहीं किया जा रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि केंद्रीय इस्पात मंत्री द्वारा कर्मचारियों के लिए जारी होने वाले वेतन समझौते के राशि की फाइल पर हस्ताक्षर नहीं किए जा रहे हैं। समय पर इसे कर देने पर बीएसपी कर्मचारियों को बड़ी राहत होती। उनके खातों में चार सालों से लंबित राशि आ जाती। जिससे वे अपने रुके हुए कार्यों को कर सकते थे लेकिन इस्पात मंत्री के पास इतना समय नहीं है। जिसके कारण बीएसपी कर्मचारियों को अनावश्यक अपनी ही राशि प्राप्ति के लिए इंतजार करना पड़ रहा है।

चुनाव के पहले 2,800 रुपये धान का समर्थन मूल्य होगा

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि छत्तीसगढ़ में सन् 2023 में विधानसभा चुनाव होंगे। उसके पहले किसानों को 2800 रुपये धान का समर्थन मूल्य मिलने लगेगा। अभी किसानों को धान का समर्थन मूल्य 2600 रुपये मिल रहा है। सन् 2022 में यह 2700रुपये हो जाएगा । उसके बाद सन् 2023 में 2800रुपये धान का समर्थन मूल्य मिलने लगेगा। सभा में प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष मोहन मरकाम राष्ट्रीय सचिव चंदन यादव ,गृह मंत्री ताम्रध्वज साहू ,दुर्ग विधायक अरुण वोरा भिलाई विधायक देवेंद्र यादव सहित अन्य लोग उपस्थित थे।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local