भिलाई, नईदुनिया प्रतिनिधि। अमृत मिशन योजना का इंतजार अभी लंबा है, बावजूद भिलाई निगम के अफसर दावा कर रहे हैं कि बिजली बिल के भुगतान के बाद सात पानी टंकियों की टेस्टिंग की जाएगी। साथ ही राइजिंग पाइप लाइन में हुए छेद को भी तलाशा जाएगा। बता दें कि अमृत मिशन योजना फेस-2 में हो रही देरी को लेकर नईदुनिया ने शुक्रवार को समाचार प्रकाशित किया था। इसमें बताया गया था कि किस तरह से काम में लगातार देरी हो रही है। अब तक तीन बार टारगेट डेट बढ़ाई जा चुकी है। पहले 2018, फिर अक्टूबर 2019 कहा गया था, अब 2020 कहा जा रहा है। कुछ लोगों का दावा है कि जिस तरह से काम चल रहा है उस हिसाब से 2020 में भी टारगेट पूरा हो पाना संभव नहीं है। अभी पांच टंकियों का निर्माण पूरा होना है। राधिका नगर पानी टंकी का काम और लंबा समय ले सकता है।

पानी टंकियों की होगी जांच

भिलाई निगम संभवतः सोमवार या उसके बाद अमृत मिशन योजना फेस-2 के तहत बनाई गई सात पानी टंकियों की टेस्टिंग करेगा। इसकी तैयारी की जा रही है। बिजली बिल का भुगतान नहीं होने की वजह से यह काम रुका हुआ था। अब चूंकि राज्य शासन के अनुदान के बाद भिलाई निगम ने 10 करोड़ बकाया राशि का भुगतान कर दिया है, लिहाजा पानी टंकियों की टेस्टिंग में दिक्कत नहीं आएगी।

छेद भी तलाशेंगे अफसर

घर-घर नल कनेक्शन देने के लिए शहरभर में बिछाई गई राइजिंग पाइप लाइन में अवैध नल कनेक्शन के लिए किए गए छेद की तलाश भी निगम के अफसर करेंगे। ताकि वाटर प्रेशर हर जगह एक सामान रहे। बताते हैं कि कैंप, सुपेला तथा खुर्सीपार इलाके में कई स्थानों पर राइजिंग पाइप लाइन में छेदकर अवैध नल कनेक्शन ले लिया गया है। जिसकी वजह से पानी 17 मीटर की ऊंचाई तक प्रेशर के साथ नहीं जा पा रहा है।

बिजली विभाग के निर्देश का इंतजार

जल्द ही सात पानी टंकियों की टेस्टिंग की जाएगी। बिजली विभाग के निर्देश का इंतजार है। कोशिश की जा रही है कि जल्द से जल्द काम पूरा हो सके। -सत्येंद्र सिंह, अधीक्षण अभियंतानोडल अधिकारी, अमृत मिशन योजना

Posted By: Nai Dunia News Network