Bhilai Steel Plant News: भिलाई। बीएसपी आवासों के पीछे बैकलेन की सफाई व्यवस्था चौपट हो गई है। सफाई के अभाव में बैकलेन में गंदगी पसरी पड़ी है और जंगली झाड़िया व खरपतवार उग आए हैं। इतना ही नहीं अब तो बारिश में जलजमाव की स्थिति भी बन गई है। इसकी वजह से लोगों को सांप, बिच्छू का भय सताने लगा है वहीं सेहत की भी चिंता होने लगी है। लोगों का आरोप है कि बीते करीब चार साल से बैकलेन की सफाई नहीं हुई है। नाली जाम होने से लोगों के घरों में पीछे की ओर से पानी भी भरने लगा है।

टाउनशिप में दो स्ट्रीट में आवासों के पीछे के हिस्से को बैकलेन कहा जाता है। इसे सीवरेज लाइन, साफ सफाई आदि की लिहाज से बनाया गया था। सभी सेक्टरों में यह व्यवस्था है और बकायदा बैकलेन की नियमित सफाई भी कराई जाती थी। हाल के कुछ सालों से बैकलेन की सफाई को लेकर न प्रबंधन गंभीरता दिखा रहा है और नही यूनयिन नेता भी दबाव बना पा रहे हैं। इसे लेकर बीएसपी के कर्मचारियों में जमकर आक्रोश है।

टाउनशिप के सेक्टर-4 सड़क 24-25 के अवासों में रहने वाले बीएसपी कर्मचारियों के परिवारजन परेशान हैं। उनका कहना है कि बैकलेन की सफाई न होने से पीछे की नाली भी जाम हो गई है। पानी निकासी का कोई साधन नहीं है। ऐसे में लगातार बारिश की स्थिति में जलजमाव होने लगा है। इतना ही नहीं लोगों के घरों में भी पानी घुसने लगा है। हाल यह है कि सीवरेज का पानी भी बैक होने लगा है। इससे नारकीय जीवन जैसा हाल हो गया है।

सेक्टर-4 में ही कई स्थानों पर बैकलेन में गंदगी पसरी पड़ी है। क्षेत्र के रहवासियों का कहना है किकरीब चार साल से सफाई नहीं हो रही है। इसे लेकर शिकायत भी की गई परन्तु अब तक कोई असर होता नहीं दिख रहा है। रहवासियों का कहना है किटाउनशिप मौसमी बीमारी के लिहाज से जरा भी सरक्षित नहीं रह गया है। हर जगह जलजमाव की स्थिति है। ऐसे में डेंगू जैसी घातक बीमारी फैल सकती है। वैसे भी टाउनशिप में डेंगू के चार से पांच केस सामने आ चुके हैं बावजूद जलजमाव को रोकने कोई भी कवायद नगर सेवाएं विभाग द्वारा नहीं की जा रही है। इससे आक्रोश की स्थिति है।

सेक्टर-4 ही नहीं अन्य सेक्टरों में भी इसी तरह की स्थिति है। बीएसपी के कर्मचारियों का कहना है कि यूनियन के नेता भी इस ओर ध्यान नहीं दे रहे हैं। ऐसे में कर्मचारियों व उनके परिवारजनों का आक्रोश कभी भी फूट सकता है। उन्होंने कहा कि जहां जहां जलजमाव वाली स्थिति है वहां तुरंत सफाई करते हुए पानी निकासी की व्यवस्था की जानी चाहिए।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local