Bhilai Steel Plant: भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि)। पेंशन की शुरुआत उनसे हो, जिन्होंने भिलाई इस्पात संयंत्र की नींव रखी। जिनकी मजबूत नींव पर बीएसपी सेल का महारत्न कम्पनी बना और इसे किसी भी कीमत पर निजी हाथों में जाने नहीं दिया जाएगा। यह भरोसा दिलाया स्टील एग्जीक्यूटिव फेडरेशन आफ इंडिया (सेफी) के चेयरमैन, भिलाई इस्पात संयंत्र आफिसर्स एसोसिएशन (ओए) के अध्यक्ष एनके बंछोर ने।

सौम्य, सहज, सरल...एनके बंछोर नईदुनिया के सप्ताह के अतिथि थे। बंछोर ने हर बात मुखर होकर कही। बेबाक, बात वहीं जो अधिकारियों और कर्मचारियों के हित में हो, जो बीएसपी के हित में हो, जो छत्तीसगढ़ के हित में। बंछोर भले ही आज ऊंचे मुकाम पर हो, पर उन्हें अपनी जमीन पता है। उन्हें पता है कि स्वयं हित से पहले कर्मचारी-अफसरों का हित है। उनका हित आवश्यक है जिन्होंने अपने खून पसीने और श्रम से एशिया के इस सबसे बड़े इस्पात कारखानों को एक मुकाम तक पहुंचाया।

वेतन समझौता प्राथमिकता

ओए के अध्यक्ष बंछोर ने कहा कि मेरी पहली प्राथमिकता सेल के अफसरों का वेतन समझौता है। हांलाकि इस पर काफी काम हो चुका है। उन्होंने कहा कि सेल के हालात अच्छे नहीं थे जब सेफी और ओए का उन्होंने कार्यभार संभाला। दशा और दिशा दोनों ही बिगड़ी हुई थी। बावजूद हमने संभावनाएं तलाशी, मुद्दों के निराकरण के लिए इस्पात मंत्री, इस्पात सचिव व सेल चेयरमैन तक के पास अपनी बात रखी।

ऐसा भी दौर आया जब हमें अपने हक के लिए सड़क पर उतरना पड़ा। ओए के अध्यक्ष ने कहा कि पेंशन पर हमने ही काम किया, आज प्रतिफल सामने हैं, हमने यह भी कहा है कि सभी को लाभ की स्थिति में एरियर मिले । मेडिक्लेम में सेवानिवृत्तों के लिए कवर्ड राशि कुल आठ लाख की गई। 80 वर्ष से अधिक आयु वाले सेवानिवृत्तों को केवल 100 रूपये टोकन मनी पर यह सुविधा देने निर्णय लिया गया। वहीं बीएसपी में उपचार कराने पर मेडिक्लेम में कटौती नहीं करने कदम भी उठाया।

प्रदेश के मुखिया का भी सहयोग

मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ओए के अध्यक्ष एनके बंछोर के करीबी रिश्तेदार हैं। हालांकि बंछोर सार्वजनिक स्थानों पर इसका अहसास नहीं होने देते परंतु बीएसपी, कर्मचारी-अफसरों के हित के मुद्दे पर सीएम के पास भी जाने से गुरेज नहीं करते। उनका कहना है कि रावघाट परियोजना पर काम को जल्द पूरा कराने में मुख्यमंत्री ने आगे बढकर सहयोग किया। इतना ही नहीं वेतन समझौता को लेकर भी इस्पात मंत्री व सेल चेयरमैन से भी बात की। राजनीति में सक्रियता के सवाल पर बंछोर ने कहा कि भविष्य में राजनीति में जाने का फैसला परिस्थितियों पर निर्भर करेगा। अभी ऐसी कोई बात नहीं है।

किसी भी सूरत में निजीकरण नहीं होने देंगे

सेफी के चेयरमैन एवं ओए के अध्यक्ष एनके बंछोर ने कहा कि केंद्र सरकार की मंशा से स्पष्ट है कि इस्पात क्षेत्र की सार्वजनिक उपक्रम उनके काम के नहीं हैं। इस वजह से केंद्र सरकार कभी भी इन उपक्रमों का निजीकरण कर सकती है। परन्तु हम यह भी स्पष्ट कर दे रहे हैं कि सेफी और ओए दोनों ही इसका पुरजोर विरोध करेंगे। केंद्र सरकार की इस मंशा को साकार नहीं होने देंगे। उन्होंने कहा कि यह विषय अफसरों ही नहीं कर्मचारियों के लिए भी गंभीर मुद्दा है और बड़ी चुनौती भी। जिस तरह से मांइस को संयंत्रों से जोड़ा जा रहा है वह सोती समझाी रणनीति ही है। जिससे संयंत्र का खरीदार मिल सके।

उन्होंने कहा कि बीएसपी और इसकी तीनों मांइस इस प्रदेश की संपदा है, हजारों- लाखों लोगों के रोजगार इसी से है। उन्होंने कहा कि निजी कंपनियों की मनमानी पर रोक के लिए सार्वजनिक उपक्रम जरूरी हैं। बंछोर ने तीसरी बार ओए के अध्यक्ष बनने पर कहा कि यह तय नहीं था कि तीसरी बार भी चुनाव लड़ूंगा। परन्तु हालात ऐसे बने चुनाव मैदान में उतरना पड़ा और रिस्पांस भी मिला। उन्होंने कहा कि पहले अक्सर यह होता था कि ओए और सेफी दोनों की कार्यशैली में विषमता वाली स्थिति बन जाती थी। सामंजस्य के अभाव में कई काम अटकते थे परन्तु अब एक ही व्यक्ति के दोनों जगह होने से इस तरह के हालात नहीं रह गए।

सुविधाओं में हो रही कटौती

ओए के अध्यक्ष ने कहा कि यह सही है हाल के कुछ समय से टाउनशिप एवं कार्मिकों की सुविधाओं को लेकर प्रबंधन की गंभीरत नदारद है। चाहे वाटर फिल्टर प्लांट के अपग्रेडेशन का काम हो या बीएसपी अस्पताल में विशेषज्ञ डाक्टरों का। एनके बंछोर ने कहा कि मध्यभारत का सबसे बेहतर सेक्टर-9 अस्पताल आज रेफरल अस्पताल बन गया है।

उन्होंने बताया कि टाउनशिप के लोगों को सस्ती बिजली मिले इसके लिए उन्होंने यहां की बिजली व्यवस्था राज्य की बिजली कंपनी को देने की मांग इस्पात मंत्री व सेल चेयरमैन से भी की है। क्योंकि स्टाफ व संसाधन के अभाव में मेंटेनेंस भी प्रभावित हो रहा है। उन्होंने यह भी कहा टाउनशिप बीएसपी ही नहीं प्रदेश की पहचान था, उसकी साख बचाए रखने के लिए सारे भिलाईयंस को आगे आना होगा, फिर से बेहतर माहौल बनाना होगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local