भिलाई। BSP News: कैंप एक से लेकर खुर्सीपार जोन तीन तक का बड़ा हिस्सा भिलाई निगम में हस्तांतरित किया जाना है, पर हस्तांतरण का यह मामला 2011 से अटक हुआ है। भिलाई निगम द्वारा बीएसपी से सारी जानकारी मांगी गई है, पर बीएसपी प्रबंधन ने अभी तक पूरी जानकारी उपलब्ध कराई नहीं है। भिलाई निगम ने इसके लिए बीएसपी प्रबंधन को हाल ही में रिमांडर भी भेजा है। बता दें कि कैंप वन, कैंप टू, खुर्सीपार का जोन एक, जोन दो तथा जोन तीन भिलाई इस्पात संयंत्र का हिस्सा है। यहां बीएसपी के क्वाटर है। टाउनशिप में सेक्टर 10 है तो ग्यारहवां सेक्टर खुर्सीपार में स्थित है। भिलाई इस्पात संयंत्र के शुरूआती दौरा में लेबर वर्ग के लिए आवास की व्यवस्था कैंप व खुर्सीपार में की गई थी।

ये पूरा इलाका भले अब टाउनशिप की तरह व्यवस्थित न हो , पर यह भिलाई इस्पात संयंत्र की ही मलकियत है। कैंप व खुर्सीपार का विकास कार्य सन् 1980 से 2000 तक साडा तथा सन् 2000 से लेकर अब तक भिलाई निगम द्वारा किया जा रहा है। हालांकि बिजली व पानी की सप्लाई भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन द्वारा ही किया जाता है। सन 2011 में बीएसपी एरिया कैंप वन, कैंप टू, खुर्सीपार जोन एक, जोन दो तथा जोन तीन को भिलाई निगम में हस्तांतरित करने की मांग उठी थी। तत्कालीन छत्तीसगढ़ विधानसभा अध्यक्ष प्रेम प्रकाश पाण्डेय ने इसकी पहल की थी। कैंप व खुर्सीपार को व्यवस्थित करने के लिए यह व्यवस्था बनाई गई थी, ताकि टाउनशिप की तरह इस दोनों सघन इलाकों में भी बेहतर विकास हो, और अच्छी सुविधा उपलब्ध हो सके।

इसके लिए राज्य शासन को पत्र लिखा गया था।सन् 2014 में राज्य शासन, भिलाई इस्पात संयंत्र तथा भिलाई निगम के बीच सैंधांतिक सहमति बन गई थी। भिलाई निगम के तत्कालीन सभापति राजेंद्र अरोरा ने भी इसके लिए लगातार पत्र व्यवहार किया था। सन् 2014 में भिलाई निगम की सामान्य सभा ने इस प्रस्ताव को पारित करते हुए यह कहा था कि भिलाई इस्पात संयंत्र से कैंप व खुर्सीपार में स्थित उसकी पूरी संपत्ति की जानकारी मांगी जाए।

कैंप एक से लेकर खुर्सीपार जोन तीन तक कुल भूमि कितनी है?

इसमें कितने बीएसपी आवास बने हुए हैं? कितने आवास अच्छी स्थित में तथा कितने संधारण योग्य है?

कितने आवास खाली हैं? तथा कितने आवास कब्जे में हैं?

कितने बिजली पोल, कितना पाइप लाइन, कितना सिवरेज लाइन है?

खाली मैदान कितने हैं, आवास के अलावा बीेएसपी के भवन व स्कूल कितने है?

भिलाई निगम प्रशासन की माने तो इन तमाम बिंदुओं पर बीेएसपी प्रबंधन से जानकारी मांगी गई थी। बीएसपी प्रबंधन ने अब तक जानकारी उपलब्ध नहीं कराई है। इसलिए हाल ही में बीेएसपी प्रबंधन को दोबारा रिमांडर भेजकर जानकारी मांगी गई है। हालांकि बताया यह भी जा रहा है कि बीएसपी प्रबंधन द्वारा सर्वे किया जा चुका है।

भिलाई नगर निगम के उपायुक्‍त अशोक द्विवेदी ने कहा कि हस्तांतरण की कार्यवाही प्रक्रिया में है। हमने हस्तांतरण के पूर्व बीएसपी प्रबंधन से पूरी जानकारी मांगी है। सामान्य सभा में यह मामला आ चुका है। बीएसपी प्रबंधन को दोबारा रिमांडर भेजा गया है। पूरी जानकारी मिलने का इंतजार है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local