भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि)। भिलाई इस्पात संयंत्र सहित सेल के सभी यूनिट में कर्मचारियों के नये पे स्केल को लेकर सेल के आदेश के बाद भिलाई इस्पात संयंत्र ने विस्तृत जानकारी एवं नियम-शर्त से संबंधित पत्र बुधवार को जारी कर दिया। सेल प्रबंधन ने बीते एनजेसीएस की बैठक में ही स्पष्ट कर दिया था कि एक जनवरी 2017 से 31 मार्च 2020 तक एरियर के मामले पर वह चर्चा नहीं करेगा। क्योंकि मामला ओडिशा हाइकोर्ट में है। ऐसे में अब कर्मचारी संभावना जता रहे हैं कि एक अप्रैल 2020 से अब तक 27 माह का एरियर अगस्त का जो वेतन सितंबर में मिलना है उसके साथ मिल सकता है। इस दौरान का एरियर कितना होगा इसे लेकर गणना का दौर भी शुरू हो गया है। माना जा रहा है कि कर्मचारियों को 60 हजार से 1.50 लाख तक का एरियर मिल सकता है। कर्मचारी यूनियन भी इसकी संभावना जता रहे हैं। हांलाकि पत्र में इसका उल्लेख नहीं किया गया है।

उल्लेखनीय है कि भिलाई इस्पात संयंत्र सहित सेल के सभी यूनिट के कर्मचारियों का नया वेतन समझौता बीते साल अक्टूबर 2021 में हुआ था। इसके आधार पर नया पे-स्ट्रक्चर तैयार करने का काम एनजेसीएस (नेशनल ज्वाइंट कमेटी फार स्टील) की सब कमेटी को दिया गया था। मार्च माह में इस पर चर्चा के बाद पे स्ट्रक्चर को फायनल किया गया था। इसके बाद से मामला अटका हुआ था। इस पे स्ट्रक्चर को स्वीकृति का अधिकार एनजेसीएस को था। सब कमेटी की बैठक के बाद एनजेसीएस की बैठक टलती रही और मामला भी अटकता रहा। बीते 19 जुलाई को एनजेसीएस की बैठक हुई और इसमें पे स्ट्रक्चर को सवीकृति दे दी गई। इसके बाद से कर्मचारियों को आदेश का इंतजार था। बीते तीन अगस्त को इसका आदेश सेल मुख्यालय में ईडी पीएंडए समीर स्वरूप की ओर से जारी किया गया था। इसके बाद भिलाई इसपात संयंत्र प्रबंधन ने सेल के पत्र के आधार पर पे स्केल की विस्तृत जानकारी के साथ ही नौ पेज का आदेश जारी किया गया है। इसमें पे स्केल से संबंधित नियम कायदों की जानकारी का उल्लेख किया गया है।

दिए जा रहे हैं तर्क

भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन द्वारा जारी इस पत्र के बाद कर्मचारी सगंठन एवं कर्मचारियों में चर्चा का दौर शुरू हो गया है। इसमें एरियर के भुगतान को लेकर संभावना जताई जा रही है कि अगस्त का जो वेतन एक सितंबर में आएगा उसमें ही एरियर की राशि मिल सकती है। एनजेसीएस में शामिल कुछ यूनियन के नेताओं का भी यही मानना है। इसके पीेछे तर्क यही दिया जा रहा है कि 19 जुलाई की बैठक में ही प्रबंधन ने इशारा दे दिया था कि सेल के तिमाही का परिणाम आने के बाद एरियर दे सकते हैं।

हाइकोर्ट में याचिका की वजह से अटकेगा 39 माह का एरियर

ओडिशा के भुवनेश्वर हाइकोर्ट में बीएमएस ने 39 माह के एरियर को लेकर याचिका लगाई है। इस वजह से बीते 19 जुलाई की एनजेसीएस की बैठक में सेल के अफसरों ने दो टूक कह दिया था कि एक जनवरी 2017 से 31 मार्च 2020 तक कुल 39 माह के बकाया एरियर के भुगतान को लेकर कोई चर्चा नहीं करेंगे क्योंकि मामला न्यायालय में है। इसमें जो भी निर्णय आएगा उसके बाद ही 39 माह के बकाया एरियर पर कदम उठाएंगे। कर्मचारियों में इस बात कि चर्चा है कि ऐसे में एक अप्रैल 2020 से अब तक कुल 27 माह के एरियर का भुगतान कर्मचारियों के अगस्त माह का वेतन जो सितंबर में मिलना है उसमें यह जुड़कर मिल सकता है। क्योंकि संयंत्र में कर्मचारियों का नया पे स्केल लागू हो गया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close