भिलाई। भारतीय इस्पात प्राधिकरण-सेल ने ग्राहकों को साधने और कंपनी की स्थिति को बेहतर करने कर्मचारियों से संवाद स्थापित करना शुरू कर दिया है। सेल चेमयरैन, डायरेक्टर और इकाइयों के मुखिया स्वयं कर्मचारियों व अधिकारियों से संवाद कर उत्पादन बढ़ाने के लिए प्रोत्साहित कर रहे हैं।

आर्थिक स्थिति और बाजार की मांग से अवगत करा रहे हैं। रेलवे द्वारा बंद की गई छोटी रेल पटरी और उसके विकल्प पर चर्चा की गई। भिलाई इस्पात संयंत्र में हार्ड हार्डेंड रेल पटरी का उत्पादन जल्द से जल्द करने का निर्देश दिया गया। इससे ही सेल की आर्थिक स्थिति सुधर सकती है। वरना निजी कंपनियां इस आर्डर को हड़प सकती हैं।

सेल अध्यक्ष अनिल कुमार चौधरी ने दो हजार से ज्यादा कर्मचारियों व अधिकारियों से संवाद किया। कर्मचारियों के प्रोडक्शन से जुड़ाव को बढ़ाने के प्रयासों पर ध्यान केंद्रित किया गया था, जिससे वर्तमान में बढ़ते स्टील बाजार का लाभ उठाए जा सके। उत्पन्न चुनौतियों पर विजय पाया जा सके। उन्होंने कहा कि सेल को बाजार में हिस्सेदारी बढ़ाने के लिए सभी प्रयासों पर जोर देना होगा।

वर्तमान परिस्थितियां बेहद अनुकूल है, विशेष रूप से सेल जैसे इस्पात निर्माताओं के लिए यह एक अतिरिक्त लाभ है, जो अपने ग्राहकों को बहुत सारे उत्पादों का विकल्प पेश कर रहे हैं।

सेल चेयरमैन ने वर्चुअल प्लेटफार्म से सेल के पांच एकीकृत इस्पात संयंत्रों के कर्मचारियों से क्रमवार जुड़े। भिलाई इस्पात संयंत्र के 500 से अधिक कर्मचारियों ने इस बड़े समूह ने भाग लिया।

तकनीकी-आर्थिक मापदंडों में सुधार कर करें लागत कम

चेयरमैन ने कहा कि इस्पात की मांग में उछाल देख रहे हैं। तकनीकी-आर्थिक मापदंडों पर सुधार लाकर उत्पादन लागत को कम करने के ठोस प्रयास किए जाएं, जो इस्पात उत्पादों के लिए अनुकूल बाजार के साथ मिलकर कंपनी के बेहतर वित्तीय प्रदर्शन में इजाफा कर सकते हैं।

इन सभी अनुकूल परिस्थितियों का लाभ उठाने के लिए सेल के सभी संयंत्रों और इकाइयों के कर्मचारियों को कमर कसनी होगी। जहां बेहतर प्रदर्शन और लाभप्रदता में सुधार से संगठन को अच्छी छवि बनती है, वहीं कर्मचारियों को भी इसका लाभ मिलेगा।

भिलाई बिरादरी से बेहद उम्मीदें सेल को

भिलाई इस्पात संयंत्र की कंपनी के समग्र प्रदर्शन में महत्वपूर्ण भूमिका है। अनिल कुमार चौधरी ने कहा कि बीएसपी में बड़ी क्षमताएं हैं, जिसका प्रदर्शन वह समय-समय पर करता रहा है। लाकडाउन अवधि के दौरान भी इसे प्रदर्शित किया है। हम सभी ने वर्तमान वित्तवर्ष की पहली छमाही में इसका अनुभव किया है। ऐसे में कंपनी को स्टील उद्योग के लिए आज बनी इन सकारात्मक और अनुकूल परिस्थितियों में भिलाई बिरादरी से बेहद उम्मीदें हैं।

भिलाई इस्पात संयंत्र के लिए प्राथमिकताओं तथा इसे प्राप्त करने की रणनीति का जिक्र करते हुए चेयरमैन ने कहा कि संयंत्र हाल ही में कई माडेक्स सुविधाओं से सुसज्जिात हुआ है और बीएसपी को इससे अधिकतम लाभ प्राप्त करना है।

रेलवे ने छोटी पटरी लेना किया बंद

इस भारी निवेश की उपयोगिता को सिद्घ करते हुए बीएसपी बिरादरी को लंबी रेल पटरी के उत्पादन को बढ़ाने अपनी कमर कसनी होगी।

साथ ही इसके अन्य मूल्य वर्धित उत्पादों जैसे वायर राड और टीएमटी बार की बाजार में अच्छी मांग है, जिससे कंपनी की लाभार्जन क्षमता बढ़ेगी। प्लेटों के लिए भी पर्याप्त मांग है जिसे संयंत्र, उत्पादन करने में सक्षम है।

रेलवे ने अस्थायी रूप से छोटी पटरी की खरीदी बंद कर दी है, लेकिन भारतीय रेलवे से लंबी रेल पटरी के आदेशों में कोई कमी नहीं है।

स्टील मेल्टिंग शाप के लिए भी जरूरी है कि वे अपने निष्पादन गति को प्रभावी बनाए रखें ताकि यूनिवर्सल रेल मिल तथा रेल एवं स्ट्रक्चरल मिल दोनों से लंबी रेल पटरी के उत्पादन में वृद्घि हो। और वर्तमान वित्तवर्ष में रेलवे के आर्डर को हम प्रतिबद्घता के साथ पूरा कर सकें।

हेड हार्डेंड रेल पटरी बीएसपी बनाए, सेल को बचाए

रेलवे से हेड हार्डेंड रेल पटरी की तत्काल मांग भी है। निजी क्षेत्र में हमारे प्रतिस्पर्धी लंबी रेल पटरी और हेड हार्डेंड रेल पटरी की मांग को पूरा करने सभी प्रयास कर रहे हैं।

ऐसे परिदृश्य में, अगर भिलाई ने उत्पादन बढ़ाने और रेल पटरी की आपूर्ति के लिए पर्याप्त और समय पर कदम नहीं उठाए, तो सेल को नुकसान का सामना करना पड़ेगा।

विदेशी विशेषज्ञों के पहुंचते ही हेड हाडर्ेंड रेल पटरी के उत्पादन की सुविधा शुरू करने की पूरी संभावना है।

इस बीच भिलाई की दोनों रेल मिलों को प्रदर्शन के मौजूदा स्तर को बढ़ाने सभी प्रयास करने होंगे।

बीएसपी वालों समझो-अभी नहीं तो, कभी नहीं...

सेल प्रबंधन ने स्पष्ट रूप से बोल दिया है कि बोर्ड के सदस्य और कंपनी के शीर्ष प्रबंधन टीम भिलाई के लिए सभी सहयोग और समन्वयन देने के लिए तैयार हैं। टीम भिलाई के प्रत्येक सदस्य को अपनी पूरी क्षमता के साथ काम करना होगा, ताकि बाजार की अनुकूल परिस्थितियों एवं अवसरों का पूरा लाभ उठाया जा सके। चेयरमैन ने पुनः जोर देकर कहा कि यह अभी नहीं तो, कभी नहीं की स्थिति है। कंपनी और उसके सभी कर्मचारी वर्तमान वित्त वर्ष में हमारे बेहतर वित्तीय निष्पादन से लाभांवित होंगे।

---

भिलाई अपने उत्पाद श्रृंखला में लांग और फ्लैट उत्पादों के मिश्रण के साथ वर्तमान परिस्थितियों में बहुत कुछ हासिल कर सकता है। वास्तव में, भिलाई में सेल के अन्य सभी सहायक इकाइयों के लाभ के योग के बराबर लाभार्जन करने की क्षमता है।

-अमित सेन, सेल के निदेशक (वित्त)

-सेल चेयरमैन को संयंत्र के विभिन्न विभागों में हाल ही में किए गए सकारात्मक विकास से अवगत कराया गया। आश्वस्त किया गया है कि भिलाई सभी चुनौतियों पर काबू पाने और सेल के ध्वजवाहक संयंत्र के रूप में अपनी स्थिति को पुनः प्राप्त करने की दिशा में तेजी से अग्रसर है।

अनिर्बान दासगुप्ता, निदेशक प्रभारी-भिलाई इस्पात संयंत्र

----

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस