भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि)। कोरोना की दहशत इस बार दशहरा उत्सव में देखने को मिला। बैकुंठधाम में रावण युद्ध में उतरने से पहले ही सैनिटाइज हुआ। इसके बाद प्रतीकात्मक रूप से रावण का दहन किया गया।

बता दें कि रविवार को दशहरा का पर्व मनाया गया। बैकुंठधाम रामलीला ग्राउंड में उत्सव देखने के लिए गिनती मात्र के ही लोग पहुंचे। यहां कार्यक्रम के लिए करीब 10 फीट के दशानन (रावण) का पुतला बनाया गया था, जिसका दहन किया गया। कोरोना के चलते इस बार शासन द्वारा जारी गाइडलाइन का पालन करते हुए राम और रावण युद्ध का मंचन भी नहीं किया गया। बैकुंठधाम में दशहरा पर्व पर सुबह सात बजे रावण का पुतला लाया गया, जिसे मैदान पर लाते ही पहले पूर्ण रूप से सैनिटाइज किया गया। समिति द्वारा सुबह से ही पूरे मैदान को दो बार सैनिटाइज करवाया गया। दशहरा उत्सव समिति के द्वारा दर्शकों को दशहरा मैदान में जाने से रोका गया था, जिसके कारण बड़ी संख्या में दर्शक आसपास के घरों की छतों से रावण दहन का नजारा देखते रहे। कोरोना की वजह से विशेष आतिशबाजी का कार्यक्रम भी नहीं किया गया।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस