भिलाई। डीपीएस स्कूल रिसाली में बुधवार को कोरोना गाइड लाइन की जमकर धज्जियां उड़ी। बच्चों को आफ लाइन परीक्षा के लिए बुलाया गया था। बच्चों और पालकों की इतनी भीड़ देख लोगों के होश उड़ गए। लोग स्कूल प्रबंधन को भी कोसते दिखे। दरअसल स्कूल प्रबंधन ने कोरोना गाइड लाइन के पालन के लिए कोई व्यवस्था नहीं की थी।

बता दें कि विशेषज्ञ कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जता चुके हैं। यह भी कह चुके हैं कि तीसरी लहर अक्टूबर-नवंबर में आ सकती है। महाराष्ट्र में बढ़ते कोरोना केस ने छत्तीसगढ़ को चिंता में डाल दिया है। यह भी कहा जा रहा है कि कोरोना की तीसरी लहर बच्चों को ज्यादा प्रभावित करेगी। इस चेतावनी के बाद भी बुधवार को डीपीएस स्कूल में जो हुआ वह काफी डराने वाला था। डीपीएस स्कूल में क्लास तथा परीक्षा अब तक आन लाइन चल रही थी। बुधवार को क्लास 6 से 12 तक के बच्चों को आफ लाइन परीक्षा के लिए बुलाया गया था। परीक्षा के लिए बड़ी संख्या में छात्र पहुंचे थे। छात्र - छात्राओं के साथ पालक भी बड़ी संख्या में थे। लिहाजा यहां कोरोना गाइड लाइन की जमकर धज्जियां उड़ी। डीपीएस स्कूल प्रबंधन को इसकी परवाह ही नहीं था। स्कूल प्रबंधन ने कोई व्यवस्था ही नहीं की थी। इस बात को लेकर कई पालक खासे नाराज भी हुए। एक पालक ने नईदुनिया को फोटो व वीडियों उपलब्ध कराई है। जिसमें बच्चों व पालकों की भीड़ काफी दिख रही है। स्कूल प्रबंधन की लापरवाही को साफ दर्शा रही है। एक पालक ने यह तक कहा कि स्कूल प्रबंधन ने यह जानते और समझते हुए कि बच्चों की वैक्सीन अभी तक नहीं आई है। उसके बावजूद आफ लाइन परीक्षा के लिए बच्चों को स्कूल बुलाना और बिना कोई व्यवस्था किए इस तरह का जमघट लगवाना बच्चों के स्वास्थ्य के साथ खिलवाड़ करना है। पालकों ने यह भी कहा कि अगर स्कूल प्रबंधन कोरोना प्रोटोकाल की गाइड लाइन के तहत उचित व्यवस्था नही कर सकता तो फिर आफ लाइन एक्जाम लेने की जरूरत ही नहीं है।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local