भिलाई। जिले के चार निकाय भिलाई, रिसाली, भिलाई चरोदा निगम तथा जामुल पालिका में चुनावी बिगूल फूंका जा चुका है। टिकट के लिए जोड़तोड़ भी शुरू हो चुका है। बड़े-बड़े दिग्गज इस बार पार्षद चुनाव लड़ने की तैयारी में हैं।

जिस दल के ज्यादा पार्षद होंगे, निकाय में उसकी सरकार बनेगी। दावेदारों ने निगम से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना शुरू कर दिया है।

आगामी 27 नवंबर से नामांकन शुरू हो जाएगा। इसके पूर्व दावेदारों ने निगम से अनापत्ति प्रमाण पत्र लेना शुरू कर दिया है। अनापत्ति प्रमाण पत्र दावेदार तथा प्रस्तावक दोनों के लिए अनिवार्य है। इसके साथ ही दावेदार टिकट के लिए भी जोर लगा रहे हैं।

भाजपा - कांग्रेस के सभी नेताओं के यहां टिकट को लेकर भीड़ जुट रही है। एक वार्ड से दोनों ही दलों में आधा दर्जन से ज्यादा दावेदार है। जिस तरह से दावेदार उमड़ रहे हैं, उससे यह संकेत मिलने लगा है कि इस बार बागियों की तादात बहुत ज्यादा होगी।

नगर निगम भिलाई

इस बार पार्षदों को महापौर चुनना है। इसलिए भिलाई में क्या होगा यह कह पाना मुश्किल है। कांग्रेस की बात करें तो टाउनशिप से लेकर खुर्सीपार एरिया में विधायक देवेंद्र यादव, पूर्व राज्यमंत्री बीडी कुरैशी का प्रभाव है।

विधायक देवेंद्र बहुमत में आने का दावा तो किया है, पर कांग्रेस कितनी सीट जीत पाएगी, फिलहाल यह कह पाना मुश्किल है।

भाजपा का गढ़ कहे जाने वाले वैशाली नगर में कांग्रेस के पूर्व विधायक भजन सिंह निरंकारी, पूर्व साडा अध्यक्ष बृजमोहन सिंह पर ज्यादा पार्षद जीताने का दारोमदार होगा।

कांग्रेस में टिकट के लिए जो घमासान मचना शुरू हुआ उसने बगावत के संकेत भी दे दिए हैं।

वहीं भाजपा की बात करे तो यहां सांसद सरोज पाण्डेय समर्थक, सांसद विजय बघेल समर्थक, पूर्व प्रेम प्रकाश पाण्डेय समर्थक तथा विधायक विद्यारतन भसीन समर्थकों के बीच टिकट को लेकर कड़ा संघर्ष होगा। भाजपा इसको कैसे मैनेज करेगी यह संगठन जाने, पर टिकट वितरण में गड़बड़ी हुई तो खामियाजा भाजपा को भुगतना पड सकता है।

खुर्सीपार व टाउनशिप भी एक तरह से भाजपा का गढ़ है, पर यहां टिकट वितरण में किसकी चलेगी, जीत हार इस पर तय है। यहां भी कई दावेदार टिकट न मिलना की स्थित में बगावत का मूड़ बनाकर बैठे हैं।

रिसाली निगम

रिसाली निगम नया बना है। यहां पहली बार चुनाव होना है। रिसाली निगम गृहमंत्री ताम्रध्वज की देन है। इस बात को बीते दो साल से जनता के दिमाग में डाला जा रहा है। रिसाली में सबकुछ पहले से तय है। इसलिए कांग्रेस में यहां बगावत के आसार कम है।

इस निगम क्षेत्र में भाजपा की राष्ट्रीय नेत्री सरोज पाण्डेय का भी निवास स्थान है। इस लिहाज से उनकी प्रतिष्ठा भी दांव पर होगी। हालांकि रिसाली निगम में भाजपा बैकफुट है, इसलिए यहां से कांग्रेस की उम्मीद ज्यादा बताया जा रहा है, पर व्यक्ति आधारित पार्षद चुनाव में कुछ भी हो सकता है।

भिलाई चरोदा निगम

यह बेहद संवेदनशील निगम है। इस निगम क्षेत्र में मुख्यमंत्री भूपेश बघेल तथा सांसद विजय बघेल का निवास स्थान है। पीएचई मंत्री रुद्र गुरु यहां के विधायक हैं। सांसद विजय बघेल का इस निकाय में खासा प्रभाव है। इसलिए टिकट के दावेदार उनके पास पहुंच रहे हैं, हालांकि संगठन में सरोज पाण्डेय समर्थकों का दबदबा है। सबसे अहम बात यहां आज तक कांग्रेस की शहर सरकार नहीं बनी है।

बात अगर पार्षदों की करें तो यहां हमेशा कांग्रेस के पार्षद ज्यादा संख्या में जीतकर आते हैं। यदि इस बार भी यह समीकरण बैठा तो कांग्रेस की सरकार बनने की संभावना बन सकती है, पर इस निकाय में विजय बघेल की सक्रियता इसे चुनौती भी दे सकती है। यहां भी सब कुछ टिकट वितरण पर निर्भर है। जिस तरह से यहां के हर वार्ड में टिकट के लिए लंबी लाइन लगी है, उससे दोनों दलों को बगावत का डर भी सता रहा है।

जामुल पालिका

जामुल नगर पालिका में दो बार कांग्रेस, एक बार निर्दलीय तथा एक बार भाजपा की सरकार रही है। अहिवारा विधायक व पीएचई मंत्री रुद्र गुरु समर्थक ज्यादा है। टिकट भी उन्हें ही तय करना है। भाजपा संगठन में सरोज पाण्डेय समर्थकों का कब्जा है, तो आम जनता व भाजपा कार्यकर्ताओं से सांसद विजय बघेल व पूर्व नपाध्यक्ष रेखराम बंछोर का सीधा प्रभाव है।

कांग्रेस में टिकट को लेकर उतनी खेमेबाजी नहीं होगी, जितनी की भाजपा में होनी है। बताया जा रहा है कि यहां कांग्रेस और भाजपा के बागियों को मिलाकर तीसरा पैनल भी गुप्त रुप से तैयार हो रहा है। जो जामुल के 24 वार्ड में प्रत्याशी खड़ा करेगा। हालांकि तीसरे पैनल की संभावना टिकट वितरण पर निर्भर है।

--

-हम पूरी तरह से तैयार है। संगठन जीतने तथा स्वच्छ छवि वालों की टिकट देगा। बूथ स्तर पर जिस तरह से बीते साल भर से हमारी तैयारी चल रही है, उससे साफ है कि कांग्रेस के पार्षद ज्यादा संख्या में जीतकर आएंगे। चारों ही निकाय में कांग्रेस की सरकार बनेगी।

-मुकेश चंद्राकर, जिला अध्यक्ष

शहर जिला कांग्रेस भिलाई

---

-भाजपा एक ऐसी पार्टी है, जो हमेशा चुनाव के लिए तैयार रहती है। कांग्रेस सरकार की कथनी और करनी को जनता जान चुकी है। इसलिए जनता ने चारों निकायों में कांग्रेस को सबक सिखाने की ठान ली है। चारों निकायों में भाजपा की सरकार बनेगी।

-वीरेंद्र साहू, जिला अध्यक्ष

भिलाई जिला भाजपा

---

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local