भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र में अगले चार दिनों तक हाट मेटल का उत्पादन करीब छह हजार टन कम होगा। प्रबंधन संयंत्र के मुख्य ब्लास्ट फर्नेस-8 को रविवार से शटडाउन पर ले रहा है। इस दौरान फर्नेस के स्टोव में लगे एक हाट ब्लास्ट वाल्व को बदला जाएगा। इटली की कंपनी को इस वाल्व का आर्डर दिया गया था। वाल्व की आपूर्ति के बाद अब इसे लगाया जाएगा। इसके लगने से उक्त फर्नेस अपनी पूरी क्षमता के साथ उत्पादन कर सकेगा।

बीते चार माह से फर्नेस से क्षमता से कम उत्पादन लिया जा रहा है।

भिलाई इस्पात संयंत्र में प्रतिदिन औसतन 16 हजार टन से अधिक हाट मेटल का उत्पादन होता है। संयंत्र के सबसे बड़ ब्लास्ट फर्नेस महामाया में फरवरी में तकनीकी दिक्कत आ गई थी। इस फर्नेस के नए स्टोव में गर्म हवा फेंकने के लिए लगाए जाने वाले वाल्व में खराबी आ गई थी। यही गर्म हवा फर्नेस में मेटल को पिघलाने का काम करती है। इसी की लाइनिंग में कुछ स्थानों पर रेड स्पाट दिखने लगा था। एक वाल्व की आनन फानन में व्यवस्था कर ली गई परन्तु दूसरा वाल्व नहीं मिल पाया था।

एक वाल्व सतारा महाराष्ट्र से मंगाया गया था। स्टोव में लगने वाला उपकरण इटली की कंपनी का है। इस वजह से दूसरा वाल्व आसानी से उपलब्ध होता न देख इसे उसी कंपनी से मंगाया गया। इसमें समय लग गया। यूक्रेन और रूस के बीच जारी युद्घ की वजह से भी वाल्व की आपूर्ति में देरी हो गई, क्योंकि हवाई मार्ग बंद होने से जलमार्ग से उक्त वाल्व मंगाया गया।जानकारी के मुताबिक उक्त वाल्व की आपूर्ति हाल में कंपनी ने कर दी। इसके आने के बाद प्रबंधन ने ब्लास्ट फर्नेस-8 को चार दिनों के लिए शट डाउन पर लेने का निर्णय लिया।

उत्पादन रहा प्रभावित

वाल्व में खराबी की वजह से ब्लास्ट फर्नेस-8 से उसकी पूरी क्षमता से उत्पादन नहीं लिया जा रहा था। उक्त फर्नेस की उत्पादन क्षमता आठ हजार टन है। वाल्व में खराबी के कारण कम क्षमता के साथ उत्पादन अब तक लिया जा रहा है। बीते मार्च में वित्तीय वर्ष समाप्ति के दौरान भी इसी स्थिति का सामना करना पड़ा। इस वजह से लक्ष्य को समय पर पूरा कर पाने को लेकर सवाल भी उठने लगे थे। फर्नेस-8 में इस दौरान 15 सौ से दो हजार टन हाट मेटल का उत्पादन कम हो रहा है। हाट मेटल का उत्पादन कम होने से संयंत्र में बनने वाले विभिन्ना उत्पादों पर इसका असर पड़ा।

फर्नेस क्रमांक-7 भी है बंद

वर्तमान में बीएसपी का फर्नेस क्रमांक-7 भी बंद है। इसे प्रबंधन ने चार माह के लिए शटडाउन पर लिया था। साल भर होने जा रहा है परंतु अब तक इसे शुरू नहीं किया जा सका है। अभी इसे शुरू करने में और कितना वक्त लग सकता है यह भी प्रबंधन नहीं बता पा रहा है। ऐसे में ब्लास्ट फर्नेस-8 को भी शट डाउन पर लेने से अच्छा खास उत्पादन प्रभावित हो जाएगा।

इन चार फर्नेस से होगा उत्पादन

ब्लास्ट फर्नेस-8 को शट डाउन पर लेने के बाद संयंत्र में फर्नेस क्रमांक-1, 4, 5 और फर्नेस क्रमांक-6 से उत्पादन लिया जाएगा। इन चारो फर्नेस से अधिकतम आठ से 10 हजार टन तक हाट मेटल का उत्पादन हो सकता है। ऐसे में माना जा रहा है कि शटडाउन के दौरान हाटमेटल का कुल उत्पादन इन्हीं आंकड़ों के आसपास तक ही रहेगा।

बीएसपी के ब्लास्ट फर्नेस का वाल्व बदला जाना है। इस वजह से 15 मई को शट डाउन की तैयारी प्रबंधन ने की है।

-जनसंपर्क विभाग, भिलाई इस्पात संयंत्र

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local