दुर्ग। Health News : आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से नवजात शिशुओं, गर्भवती महिलाओं, शिशुवती माताओं को पूरक पोषण आहार प्रदान किया जाता है। इस काम में आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं की भूमिका महत्वपूर्ण होती है। जिले के शहरी क्षेत्रों में आंगनबाड़ी भवन के लिए जगह की किल्लत बनी हुई है।

जनप्रतिनिध्ाियों का कहना है कि आगामी बजट में इसके लिए सरकार को प्रविध्ाान करना चाहिए।

छह माह से 54 आयु वर्ष तक के बच्चों को कुपोषण से बाहर निकालने के साथ ही गर्भवती व शिशुवती माताओं के लिए आंगनबाड़ी केंद्रों के माध्यम से विभिन्ना अभियान चलाया जाता है। इस दिशा में सरकार द्वारा चलायी जा रही विभिन्ना योजनाओं का क्रियान्वयन भी इन केंद्रों के माध्यम से किया जाता है। जिले में करीब 1502 आंगनबाड़ी केंद्र है। महिला एवं बाल विकास विभाग से प्राप्त जानकारी के मुताबिक जिले में करीब 312 आंगनबाड़ी केंद्र भावनविहीन है।

ऐसे केंद्रों का संचालन किराए के भवन में किया जा रहा है। सभी भवन विहीन आंगनबाड़ी केंद्र शहरी क्षेत्रों के हैं। इन केन्द्रों का निर्माण के लिए सरकारी जगह नही मिल पा रही है।

इस कारण भवन निर्माण के लिए प्रस्ताव तैयार होने व राशि की स्वीकृति मिलने के बाद भी भवन का निर्माण नहीं हो पाया है। वहीं ग्रामीण अंचलों में शत प्रतिशत आंगनबाड़ी केंद्र भवन निर्माण का काम पूरा हो चुका है।

सारी जानकारी आनलाइन

जिले में सुपोषण अभियान चलाया जा रहा है। अभियान के अंतर्गत इस साल लक्ष्य के अनुरूप अब तक 22 फीसद बध्ााों को सुपोषित किया जा चुका है। इस साल आठ हजार बध्ााों को उक्त अभियान के तहत सुपोषित किए जाने का लक्ष्य रखा गया है। विभाग द्वारा सुपोषण अभियान की पूरी जानकारी आनलाइन कर दी गई है न जिसमें बच्चों के आयु वर्ग, दिए जाने वाले पोषण आहार की मात्रा सहित अन्य जानकारी शामिल हैं। महिला एवं बाल विकास विभाग दुर्ग द्वारा बनाई गई इस व्यवस्था को कुछ और जिले ने अमल में लाया है।

Posted By: Ravindra Thengdi

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

 
Show More Tags