भिलाई। भिलाई इस्पात संयंत्र की मान्यता प्राप्त यूनियन इंटक द्वारा हाल में ही नई प्रमोशन पालिसी का एग्रीमेंट किया गया था।यह एग्रीमेंट के होने के बाद सभी विभागों में नई प्रमोशन पालिसी लागू कर दी गई है। जिसके अंतर्गत सभी विभागों में नई सीनियारिटी लिस्ट जारी की जा रही है।

इससे बीएसपी के कई सीनियर कर्मचारियों को जूनियर कर दिया गया है। शनिवार को स्टील मेल्टिंग शाप एसएमएस-3 में सीनियारिटी लिस्ट जारी कर दी गई है। यहां पर नई प्रमोशन पालिसी का पूरे एसएमएस-3विभाग में जबरदस्त विरोध हो रहा है ।

भिलाई इस्पात संयंत्र में सीनियारिटी लिस्ट को जब कर्मचारियों ने देखा तो पाया कि कई पुराने अनुभवी सीनियर कर्मचारी अपने ही जूनियर कर्मचारियों से सीनियारिटी में पीछे होकर जूनियर बन गए हैं।जिसके कारण एसएमएस-3 में जबरदस्त रोष एवं आक्रोश उत्पन्ना हो गया।

इसी मुद्दे पर चर्चा करने के लिए आज कई कर्मचारी पर्सनल विभाग में अधिकारियों का घेराव करने पहुंच गए।इस नई व्यवस्था से नाराज कर्मचारियों का पर्सनल विभाग के अधिकारियों में तीखी बहस भी हुई। कर्मचारियों ने साफ-साफ पर्सनल अधिकारियों को बताया कि हम इस नई प्रमोशन पालिसी को बिल्कुल स्वीकार नहीं करेंगे।

इसके अलावा धपे रिवीजनध के देरी होने के कारण कर्मचारियों के भीतर वैसे ही काफी दिनों से नाराजगी और रोष व्याप्त है। अब वर्तमान में नई प्रमोशन पालिसी के सीनियारिटी लिस्ट जारी होने के कारण विभाग में काफी गुस्सा और नाराजगी बढ़ गई है। सीनियर कर्मचारियों का जबरदस्त विरोध देखा जा रहा है । जिस कारण भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन को नई चुनौतियों का सामना भविष्य में करना पड़ सकता है।

कर्मचारियों ने बताया कि एसएमएस -3 की पर्सनल अधिकारी सुश्री रजनी चौरसिया ने कर्मचारियों से कहा कि अगर आपको नई प्रमोशन पॉलिसी का विरोध करना है। तो आप लिखकर दे दीजिए कि आपको भविष्य में कभी भी किसी प्रकार का प्रमोशन नहीं चाहिए।

इससे आए हुए कर्मचारी और भड़क गए तथा उनके बीच काफी तीखी नोकझोंक हुई।कर्मचारियों ने कहा कि इनकी शिकायत भिलाई प्रबंधन के उच्च अधिकारियों से की जाएगी। इस बात का विरोध लेबर कमिश्नर (सेंट्रल) रायपुर में दर्ज कराया जाएगा।

एसएमएस- 3 के कर्मचारियों के द्वारा पर्सनल से शिकायत की गई कि विभागीय प्रबंधन कर्मचारियों की सीनियारिटी लिस्ट को सार्वजनिक करने की बजाय अपने आफिस में छुपा कर रखा जा रहा है।

कर्मचारियों के द्वारा मांगे जाने पर कई तरह का बहाना बनाया जाता है। जबकि सीनियारिटी लिस्ट को सभी सेक्शन में एक- एक प्रति दी जानी चाहिए। ताकि कर्मचारियों के द्वारा किसी भी प्रकार की दावा आपत्ति एवं अपील का अधिकार बना रहे। अपील करने की समय सीमा भी सीमित करके 5 अगस्त रखी गई है।

प्रमोशन पालिसी सबके के लिए होनी चाहिए।बीएसपी में जो प्रमोशन पालिसी लागू की गई है वह किसी को भी स्वीकार्य नही है।हम नई प्रमोशन पालिसी का हर स्तर पर विरोध करेंगे।

एचएस मिश्रा, अध्यक्ष हिंद मजदूर सभा

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local