भिलाई। बीएसपी में कोरोनाकाल के दौरान संक्रमण का शिकार होकर दिवंगत हुए दो सौ से अधिक कर्मचारी व अधिकारियों के आश्रित को अनुकंपा नियुक्ति पर अब तक सेल स्तर पर फैसला नहीं हो पाया है। यूनियनों की मांग के बावजूद सेल प्रबंधन की ओर से अब तक किसी तरह की कवायद नहीं हुई है।

वहीं इस्पात उत्पादन में सेल-बीएसपी की प्रमुख प्रतिद्विंदी कंपनी जिंदल कर्मियों के हित में एक कदम आगे बढ़ गया। जिंदल ने 19 दिवंगत कार्मिकों के आश्रितों को अनुकंपा नियुक्ति दे चुका। इसे लेकर अब इंटरनेट मीडिया पर जमकर बीएसपी-सेल प्रबंधन के खिलाफ कर्मी आक्रोश निकालने लगे हैं।

देश की निजी क्षेत्र की प्रमुख इस्पात उत्पादन कंपनी जिंदल स्टील एंड पावर लिमिटेड ने कोविड-19 महामारी से मृत कर्मियों के परिजनों के लिए अनुकंपा नियुक्ति का प्रावधान कर दिया है। इतना ही नहीं बधाों की स्कूल और कालेज फीस मेडिकल सुविधा तथा एक्सग्रेशिया को लेकर भी बड़ा ऐलान किया है।

इंटरनेट मीडिया पर यह खूब प्रचारित हो रहा है। बीएसपी-सेल कर्मियों के ग्रुप में भी इसे कर्मी प्रचारित कर रहे हैं। वही भिलाई इस्पात संयंत्र सहित सेल के सभी इकाइयों में कोविड-19 महामारी अपना प्रकोप दिखा रही है। वैश्विक महामारी कोविड-19 से सेल में सबसे ज्यादा मृत्यु भिलाई इस्पात संयंत्र में कर्मचारियों की हुई है। लाकडाउन में भी भिलाई इस्पात संयंत्र कर्मचारी लगातार अपने दायित्वों का निर्वाह करते रहे हैं।

इस दौरान कई विभाग में सामूहिक संक्रमण के मामले भी आए हैं। जिसके बाद कर्मचारियों को गंभीर परिस्थितियों से गुजारना पड़ा।

इस दौरान 200 से अधिक कर्मचारियों की मृत्यु भी हो चुकी है। वैश्विक महामारी में उत्पादन को जारी रखने वाले कर्मचारी समुदाय के लिए सामूहिक बीमा और अनुकंपा नियुक्ति की मांग लगातार उठती रही है। जिस पर प्रबंधन से अब तक सिर्फ आश्वासन के अलावा कुछ भी हासिल नहीं हुआ है।

-इंटरनेट मीडिया पर चल रहा जिंदल स्टील पावर लिमिटेड ने की यह घोषणा

-कर्मचारियों के बधाों को 12वीं तक की मुफ्त शिक्षा अधिकतम 1,00, 000 प्रति वर्ष प्रति बधो।

-कर्मचारी के परिजनों को आगामी पांच वर्षों तक वेतन तथा 10 वर्षों तक मेडिकल सुविधा। अथवा परिवार के एक सदस्य को नियमानुसार कंपनी में नौकरी।

- यात्रा भत्ता एक लाख रुपये तक का परिजनों को।

-एक्सग्रेसिया का भुगतान रिटायरमेंट के बेसिक (वर्तमान बेसिक पर नही) या 20 लाख जो कम हो।

-कालेज फीस का भुगतान स्कालरशिप योजना के तहत।

इधर, सेल बीएसपी का यह हाल

सेल में विभिन्न यूनियन के द्वारा कोविड-19 महामारी में मृत कर्मचारियों के आश्रितों के लिए अनुकंपा नियुक्ति एवं चिकित्सा सुविधा सहित अन्य सुविधाओं की मांग लगातार की जा रही है। यूनियनों के द्वारा सेल चेयरमैन और अन्य स्तर पर पत्र भी लिखा गया। लेकिन उनका प्रयास अब तक फलीभूत होते नहीं दिख रहा है। बीते दिनों भी हुई बैठक भी बिना किसी निर्णय के समाप्त हो गई।

इंटरनेट मीडिया में कर्मियों का आक्रोश

बीएसपी-सेल कर्मियों के इंटरनेट ग्रुप में जिंदल स्टील के निर्णय की खबर आने के बाद कर्मियों ने मुखरता से इस मामले को लिया है।

यूनियन प्रतिनिधियों और प्रबंधन पर सवाल दागते हुए कर्मियों का कहना है कि जब प्रबंधन वेतन समझौते में कर्मियों के वेतन की तुलना निजी क्षेत्र से करता है तो इस मामले में अब तक क्यों तुलना नहीं की गई।

दिव्यांगों को भी नहीं राहत

संक्रमण की दूसरी लहर में सेल प्रबंधन ने रोस्टर ड्यूटी को लेकर कोई निर्णय नहीं लिया। जबकि इससे कम गंभीर स्थिति में पिछले वर्ष रोस्टर ड्यूटी लगाकर आधे मैनपावर से उत्पादन कराया गया था। बावजूद इसके सेल ने रिकार्ड मुनाफा दर्ज किया था।

इस बार भिलाई में संक्रमण के ज्यादा घातक होने का कारण रोस्टर लागू ना होना भी रहा है। वहीं डीपीई की सिफारिशों के बावजूद भी दिव्यांग कर्मचारियों के लिए वर्क फ्राम होम की सुविधा देने के लिए कोई निर्णय नहीं हो पाया। नईदुनिया ने इस मामले को प्रमुखता से उठाया था।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags