भिलाई । भिलाई इस्पात संयंत्र के ट्रांसपोर्ट एंड डीजल विभाग से निकाले गए ठेका लोको आपरेटरों के आंदोलन को एक माह हो गया। बीएपी प्रबंधन, स्थानीय प्रशासन से लेकर श्रम न्यायालय तक गुहार लगाने के बाद भी आंदोलनकारियों को अब तक न्याय नहीं मिल पाया है। अपने हक और काम की मांग को लेकर अड़े इन ठेका आपरेटरों का कहना है कि मजदूरों की कहीं सुनवाई नहीं है।

उल्लेखनीय है कि भिलाई इस्पात संयंत्र में ठेका कंपनी के अंतर्गत काम करने वाले लोको आपरेटरों को काम से निकाल दिया गया है। इसके बाद से उक्त आपरेटर बीएसपी आइआर कार्यालय के गेट के सामने धरने पर बैठे हैं। अभी तक संयंत्र प्रबंधन द्वारा समस्या का हल नही किया गया है। उनका आरोप है कि अधिकारी अनदेखी कर रहे हैं। मजदूरों ने क्षेत्रीय श्रमायुक्त रायपुर में भी पत्र देकर गुहार लगाई।

जवाब देने के लिए क्षेत्रीय श्रमायुक्त ने एचएससीएल और संयंत्र प्रबंधन को 15 दिन के अंदर जवाब देने कहा गया था। यह समय भी पूरा हो गया। क्षेत्रीय श्रमायुक्त से जानकारी ली गई तो बताया गया कि प्रबंधन फाइनल देने की तैयारी में है। क्षेत्रीय श्रमायुक्त ने यह भी कहा कि एक दो दिन के भीतर अधिकारियो को बुलाकर समाधान के लिए बात करेंगे। मजदूरों का कहना है कि हमें पहले काम चाहिए। हम लोगों को निकाल कर नए मजदूर को उसी जगह उसी काम पर लिया गया, ऐसा था तो हमें क्यों निकाला गया।

नियमों के तहत एक महीना पहले नोटिस भी नहीं दिया गया। छत्तीसगढ़ मुक्ति मोर्चा मजदूर कार्यकर्ता समिति के कलादास डेहरिया ने कहा कि उनका संगठन मजदूरों के साथ है।

Posted By: Nai Dunia News Network

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस