भिलाई। यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर पुलिस अब हाईटेक तरीके से कार्रवाई करेगी। यातायात पुलिस ने 35 नग ई चालान डिवाइस खरीदे हैं। जिससे वे यातायात नियमों का उल्लंघन करने वालों पर कार्रवाई कर जुर्माना वसूल करेगी। अब तक पुलिस चालान बुक से रसीद काटकर जुर्माना वसूल करती थी। ये मशीन सिर्फ रसीद बुक की ही जगह नहीं लेगी। बल्कि, कई और तरीकों से हाईटेक होगी। भिलाई ट्रैफिक डीएसपी सतीश ठाकुर का बताया कि जिले के लिए 35 नग ई चालान डिवाइस मंगाए गए हैं। यातायात विभाग के सभी अधिकारियों को इसे चलाने की ट्रेनिंग दी जाएगी। इसके बाद इस मशीन से कार्रवाई शुरू की जाएगी।

यदि पुलिस किसी वाहन चालक को पकड़ती है तो उसे दस्तावेज की जांच में समय खराब करने की जरूरत नहीं होगी। इसलिए जैसे ही इसमें वाहन का नंबर दर्ज किया जाएगा। ये मशीन परिवहन विभाग से कनेक्ट होकर वाहन का पूरा डाटा निकाल लेगी। जिससे ये पता चल जाएगा कि वाहन का बीमा, फिटनेस और प्रदूषण का प्रमाण पत्र है या नहीं। जितनी भी खामियां सामने आएंगी, ये मशीन उसके हिसाब से पूरा चालान तैयार कर देगी। ये मशीन परिवहन विभाग के साथ ही न्यायालय और जिला कोषालय से भी कनेक्ट रहेगा। कोई वाहन चालक जुर्माना देने से इन्कार करता है तो इस मशीन की मदद से प्रकरण को न्यायालय में पेश कर दिया जाएगा। जिसके बाद न्यायालय से जुर्माने की वसूली होगी। न्यायालय से वसूल किए गए जुर्माने को जिला कोषालय में जमा कर दिया जाएगा। जिले में मशीनें पहुंच चुकी हैं। जल्द ही यातायात विभाग के सभी कार्मिकों को इसे चलाने की ट्रेनिंग दी जाएगी और उसके बाद इस मशीन के माध्यम से कार्रवाई शुरू की जाएगी।

आनलाइन चालान भुगतान का भी रहेगा विकल्प

यह डिवाइस यातायात पुलिस के बैंक खाता से कनेक्ट रहेगा। यदि कोई वाहन चालक आनलाइन चालान जमा करना चाहता है तो इसके स्क्रीन से क्यूआर कोड स्कैन कर आनलाइन चालान जमा कर सकेगा। साथ ही इसमें एटीएम कार्ड स्वाइप करने का भी आप्शन होगा। जिसकी मदद से कार्ड स्वाइप कर के भी चालान पटाया जा सकता है। किसी भी तरीके से चालान जमा करने के बाद मशीन से जनरेट रसीद को वाहन चालक को दिया जाएगा।

दस्तावेज को लेकर झूठ नहीं बोल सकेंगे वाहन चालक

यदि पुलिस किसी वाहन चालक को पकड़ती है और उससे वाहन से संबंधित दस्तावेज मांगती है तो वे पुलिस से झूठ नहीं बोल सकेंगे। अब तक कई बार ऐसा होता था कि पकड़े गए वाहन चालक अपना लाइसेंस और वाहन का आरसी तो दिखा देते थे। लेकिन, बीमा, फिटनेस और प्रदूषण जैसे दस्तावेजों को लेकर झूठ बोलते थे कि वे सभी दस्तावेज भी है। लेकिन, वे उसे घर पर भूल आए हैं। लेकिन, ये डिवाइस वाहन की पूरी जानकारी बता देगा।

Posted By: Vinita Sinha

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close