भिलाई (नईदुनिया प्रतिनिधि)। दुर्ग रेंज के पांचों जिलों में पदस्थ आरक्षक और प्रधान आरक्षक स्तर के कर्मचारियों के लिए पदोन्नाति परीक्षा आयोजित की गई थी। इसमें पूरे रेंज से 1062 आरक्षकों ने प्रधान आरक्षक बनने के लिए परीक्षा दी थी। वहीं 323 प्रधान आरक्षक, सहायक उप निरीक्षक बनने के लिए परीक्षा में शामिल हुए थे। प्रक्रिया को पूर्ण हुए महीना भर पूरा होने जा रहा है। लेकिन, अभी तक इसका परिणाम घोषित नहीं हुआ है। इसे लेकर विभाग के कर्मचारियों में असंतोष की स्थिति है और वे चर्चा करने लगे हैं। क्योंकि जिन्होंने परीक्षा दी है। उनमें से कुछ लोगों की जल्दी ही सेवानिवृत्ति भी होने वाली है। लिहाजा वे चाहते हैं कि यदि सेवानिवृत्ति के पहले उन्हें प्रमोशन मिल जाता तो उन्हें ज्यादा लाभ मिलता।

उल्लेखनीय है कि लिखित परीक्षा उत्तीर्ण करने के बाद अभ्यर्थियों के लिए शारीरिक दक्षता की भी परीक्षा आयोजित की गई थी। जिसमें दौड़ और गोला फेंक जैसी कसौटी पर सभी को परखा गया था। कुछ लोगों को छोड़कर बाकी अभ्यर्थी इसमें उत्तीर्ण भी हुए थे। रेंज के सभी जिलों दुर्ग, राजनांदगांव, बालोद, बेमेतरा और कबीरधाम के अभ्यर्थियों ने चार दिन में शारीरिक दक्षता की परीक्षा दी थी। खास बात ये है कि परीक्षा का परिणाम आ चुका है। लेकिन, अभी तक परिणाम घोषित नहीं हुए हैं। विभागीय कर्मचारियों के बीच चर्चा शुरू हो गई है कि प्रदेश के अन्य रेंज में परिणाम घोषित करने के साथ ही कर्मचारियों को पदोन्नाति भी दी जा चुकी है। लेकिन, दुर्ग के पुलिस कर्मियों को अभी तक इंतजार करना पड़ रहा है।

पदोन्नाति परीक्षा के परिणाम घोषित होने के बाद कर्मचारियों को तो इसका लाभ मिलेगा ही। साथ ही विभाग में विवेचकों की संख्या भी बढ़ेगी। प्रदेश में प्रधान आरक्षक स्तर के कर्मचारियों को विवेचना का अधिकार है। इस लिहाज से रेंज के 1062 आरक्षकों को पदोन्नाति मिलती है तो रेंज में उतने ही विवेचक भी बढ़ जाएंगे। इससे अपराध के निराकरण में तेजी आएगी।

विवेकानंद सिन्हा, आइजी दुर्ग रेंज ने कहा कि एक से दो दिन में पदोन्नाति परीक्षा के परिणाम घोषित कर दिए जाएंगे। प्रक्रिया में जो समय लगता है, उतना ही समय लग रहा है। परिणाम घोषित होने के बाद कर्मचारियों को जल्द ही पदोन्नाति भी दे दी जाएगी।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local