Rule For Security in BSP: भिलाई। छत्‍तीसगढ़ में भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन ने विभागीय कार्यों के दौरान तथा सड़क सुरक्षा संबंधी नियमों की अनदेखी के खिलाफ कड़ा रुख अपनाने का फैसला किया है। इसके तहत जल्दी ही उल्लंघन करने वाले व्यक्तियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई के अनुशंसा सेफ्टी इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट द्वारा की जाएगी। जिसमें आर्थिक दंड सहित अनुशासनात्मक कार्रवाई तक के प्रविधान है।

भिलाई इस्पात संयंत्र में जहां लगातार मानिटरिंग के बाद सड़क दुर्घटनाओं में काफी कमी आई है। बावजूद इसके व्यक्तिगत लापरवाही अब भी चिंता का कारण बनी हुई है। प्रबंधन ने अब सख्त रवैया अपनाने का निर्णय लिया है जिसमें अधिकारियों के लिए 500 रुपये तक आर्थिक दंड और कर्मचारियों के लिए 200 रुपये आर्थिक दंड का प्रविधान किया जा रहा है।

भिलाई इस्पात संयंत्र अब जीरो टालरेंस सेफ्टी रूल्स पर काम करेगा, जिसमें सुरक्षा नियमों की अनदेखी करते पाए जाने पर सीधे कार्रवाई का प्रविधान है। जहां पहले समझाकर छोड़ दिया जाता था। वहीं अब सुरक्षा नियमों की अनदेखी करने वालों को पहले ही बार में एडवाइजरी लेटर भी आ जाएगा। उसके साथ -साथ संबंधित व्यक्ति को बीएसपी को लिखकर देना होगा कि वह भविष्य में ऐसी गलती को नहीं दोहराएगा।

कार्यस्थल और सड़क पर सुरक्षा के नियमों की अनदेखी करने वालों पर नकेल कसने के लिए सुरक्षा इंजीनियरिंग विभाग की टीम सरप्राइज विजिट करेगी। इसके लिए विभिन्ना विभागों के प्रमुख और डीएसओ की अलग-अलग टीम बनाने पर विचार चल रहा है। साथ ही सुरक्षा इंजीनियरिंग विभाग के अधिकारी भी अपनी टीम के साथ काम करेंगे।

बीएसपी में सड़क सुरक्षा का उल्लंघन करने वाले कर्मचारियों पर सुरक्षा इंजीनियरिंग विभाग के कर्मचारी लगातार नजर बनाए रखते हैं। यह कर्मचारी हरी टोपी में संयंत्र के प्रमुख मोड़ पर सीट बेल्ट , हेलमेट और गाड़ी की स्पीड चेक करते देखें जाते हैं। अब तक इन मामलों में सिर्फ चेतावनी देकर छोड़ दिया जाता था, लेकिन अब जीरो टोलरेंस सिस्टम आने के बाद अब कार्रवाई होगी।

ये हैं कायदे कोई भी किसी भी उपकरण पर बिना आइसोलेशन के कार्य न करें। कोई भी बिना सेफ्टी गार्ड वाली मशीन या उसके समीप कार्य न करें। कोई भी बिना सुरक्षा उपाय ऊंचाई पर काम ना करें। कोई भी कन्फाइंड स्पेस में अकेले काम ना करें। कोई भी व्यक्ति वाहन चलाते समय या सीढ़ी उतरते चढ़ते समय या मशीन पर कार्य के दौरान मोबाइल का उपयोग ना करें।

कोई भी व्यक्ति नशे की हालत में संयंत्र परिसर में प्रवेश ना करें। पहली गलती पर एडवाइजरी लेटर दिया जाएगा और संबंधित व्यक्ति को अंडरटेकिंग देनी होगी, दूसरी गलती पर चेतावनी पत्र और अधिकारियों को ढाई सौ रुपए और कर्मचारियों को ? 100 के अर्थदंड का प्रविधान है, तीसरी गलती पर? 500 अर्थदंड के साथ साथ परिवार के समक्ष काउंसलिंग का प्रविधान है, चौथी गलती पर अनुशासनात्मक कार्रवाई जोकि स्टैंडिंग आर्डर और सीडीए रूल्स के तहत की जाएगी

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local