दुर्ग। जिले में 10 वीं और 12 वीं बोर्ड के नतीजों में किसी स्कूल का परीक्षा परिणाम 21.05 फीसद तो किसी का 26.02 फीसद रहा। कुछ स्कूल ऐसे हैं जिसका परिणाम 33 से 40 फीसद के बीच रहा।

शिक्षा विभाग द्वारा ऐसे स्कूलों को चि-ति कर आगामी शैक्षणिक सत्र में शिक्षा के स्तर में सुधार लाने रोड मैप तैयार किया गया है। जिसके मुताबिक कमजोर नतीजे वाले स्कूलों के साथ-साथ अन्य स्कूलों के नतीजों में और सुधार लाने वालेंटियर आधारित कार्यक्रम तैयार किया गया है।

कोरोना काल में 10 वीं और 12 वीं बोर्ड की परीक्षा दो साल बाद आफलाइन हुई। जिले में दसवीं बोर्ड का परीक्षा परिणाम 68.80 फीसद और 12 वीं बोर्ड का परीक्षा परिणाम 78.46 फीसद रहा।

लेकिन कई स्कूलों के नतीजे बेहद खराब है। 12 वीं बोर्ड में एक स्कूल का परीक्षा परिणाम 21.05 फीसद है वहीं 10 वीं बोर्ड में 26.02 फीसद। जिले में 179 हाई व हायर सेकेंडरी स्कूल है जिसमें से 16 स्कूलों का परिणाम ही सौ फीसद रहा। जिला शिक्षा विभाग द्वारा स्कूलवार परीक्षा परिणामों की समीक्षा कर आगामी शैक्षणिक सत्र में नतीजों में सुधार लाने रोड मैप भी तैयार किया गया है।

नतीजों में सुधार लाने करेंगे यह प्रयास

जिले के सभी स्कूलों में विषय विशेषज्ञों द्वारा वालेंटियर आधारित कार्यक्रम चलाया जाएगा। जिसमें ट्यूटर.कोचिंग संस्थान से जुड़े हुए लोग,शिक्षा के क्षेत्र से जुड़े हुए लोग और प्रतिभावान युवक अपनी सेवाएं वालेंटियर बनकर दे सकते हैं।

-बच्चों का शिक्षा के साथ जुड़ाव स्थापित करने पर जोर

-स्कूलों में पढ़ाई के लिए शिक्षकों को छोटा माड्यूल तैयार करने का निर्देश

-कोरोना काल में आनलाइन पढ़ाई की वजह से आए गैप को दूर करने पर जोर

इन स्कूलों का परीक्षा परिणाम रहा कम

-10 वीं बोर्ड- 10 वीं बोर्ड की परीक्षा में सबसे कम नतीजे वाले स्कूलों में गर्ल्स स्कूल जेपी नगर कैम्प-2 भिलाई पहले नंबर पर है यहां का परीक्षा परिणाम 26.02 फीसद रहा। यहां 123 विद्यार्थियों में से 32 ही उत्तीर्ण हुए हैं। 17 को पूरक मिली है और 74 फेल हो गए हैं। शासकीय चंद्रशेखर आजाद हाई स्कूल दुर्ग में 30.30 फीसद विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं। यहां यहां 66 में से 20 विद्यार्थी ही पास हुए हैं जबकि 43 फेल हुए हैं।

शासकीय हाईस्कूल कैम्प-2 भिलाई में 33.33 फीसद,शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल कुरुद भिलाई में 36 फीसद,शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल रसमड़ा में 36.23 फीसद,स्वामी आत्मानंद शासकीय अंग्रेजी माध्यम स्कूल जामगांव एम में 36.56, शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल अंडा में 38.58 फीसद, शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल चंदखुरी में 39.72 फीसद, शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर-9 में 40 और रुआबांधा में 40 फीसद विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं।

12 वीं बोर्ड- 12 वीं बोर्ड में सबसे कम परीक्षा परिणाम शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल सेक्टर-9 का 21.05 फीसद रहा। यहां कुल 19 विद्यार्थियों ने परीक्षा दी थी जिसमें से चार विद्यार्थी ही उत्तीर्ण हुए। 19 को पूरक की पात्रता मिली है और आठ विद्यार्थी फेल हो गए हैं।

इसी तरह से शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल भंसुली क में 42.31 फीसद, शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल अंजोरा में 53.33 फीसद,शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल निकुम में 57.76 फीसद,शासकीय उच्च.माध्य.शाला तिरगा में 59.04 फीसद,शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल मतवारी में 59.76 फीसद विद्यार्थी उत्तीर्ण हुए हैं।

स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम में दो स्कूलों का परिणाम सौ फीसद

कक्षा बारहवीं में शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल टेमरी,घोटवानी,स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल कुम्हारी का परीक्षा परिणाम सौ फीसद रहा। इस कड़ी में धमधा ब्लाक के शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल गिरहोला, उमरपोटी, दुर्ग ब्लाक के कोडिया,हथखोज,स्वामी आत्मानंद अंग्रेजी माध्यम स्कूल भिलाई-तीन, शासकीय स्कूल पहडोर,शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल सिरसाकला का परीक्षा परिणाम भी सौ फीसद रहा। इसी तरह कक्षा दसवीं में शासकीय हायर सेकेंडरी स्कूल कन्हारपुरी, रूदा, गुजरा, पतोरा, रिसाली और गुजरा शामिल हैं।

नए शैक्षणिक सत्र के लिए स्कूलों में पढ़ाई को लेकर रोड मैप तैयार किया गया है। जिससे कमजोर स्कूलों सहित सभी स्कूलों में परिणाम बेहतर लाया जा सके। इस संबंध में प्राचार्यों की बैठक लेकर उन्हें जानकारी दी गई है।

-अभय जायसवाल, जिला शिक्षा अधिकारी दुर्ग

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close