भिलाई। नौकरी से निकाले जाने के बाद भी स्पैरो का एक कर्मचारी अवैध रूप से कर वसूली कर रहा था। वित्तीय अनियमितता के चलते कंपनी ने आरोपित कर्मचारी को काम से निकाल दिया था।

इसके बाद भी वो करदाताओं से संपर्क कर उनसे टैक्स वसूली कर रुपये के अपने निजी खर्च के लिए इस्तेमाल कर रहा था। एक करदाता की शिकायत पर निगम ने उसके खिलाफ कार्रवाई के लिए छावनी पुलिस को पत्र लिखा है।

निगम से मिली जानकारी के मुताबिक निगम में कर वसूली करने वाली करने वाली कंपनी स्पैरो इंडिया के पूर्व कर्मचारी सौरभ साव के खिलाफ छावनी थाना में शिकायत की गई है।

आरोपित ने पांच माह पूर्व निगम क्षेत्र के एक निवासी ठाकुर मनोज कुमार सिंह से संपत्ति कर के आठ हजार 286 रुपये गूगल पे के माध्यम से अपने खाते में मंगवा लिए थे। रुपये मंगाने के बाद आरोपित ने करदाता को कोई रसीद नहीं दी। इस पर ठाकुर मनोज कुमार सिंह को धोखाधड़ी का अहसास हुआ। उसने सात अगस्त 2021 को निगम से इसकी शिकायत की।

जिसकी जांच की करने पर स्पैरो इंडिया कंपनी को से जानकारी मिली कि आरोपित सौरभ साव को 30 नवंबर 2020 को ही नौकरी से निकाला जा चुका है। साथ ही कर जमा करने के लिए उसे जारी की गई आइडी भी निरस्त कर दी गई है। इस बात की पुष्टि होने के बाद निगम ने आरोपित सौरभ साव के लिए कानूनी कार्रवाई के लिए छावनी पुलिस को पत्र लिखा है।

स्पैरो इंडिया के क्षेत्रीय प्रबंधक अमित श्रीवास्तव ने लोगों से अपील की है कि वे किसी को भी टैक्स की राशि देने के पहले उसकी आइडी कार्ड जरूर देखें। राशि देने के बाद उससे रसीद जरूर लें। कोई भी शक होने पर निगम कार्यालय में संपर्क करें। उन्होंने बताया कि नकद, चेक, कार्ड और आनलाइन माध्यम से टैक्स की वसूली की जाती है और तत्काल उसकी रसीद भी दी जाती है।

इसके अलावा करदाता के मोबाइल पर इससे संबंधित मैसेज भी भेजा जाता है। साथ ही सूडा की वेबसाइट पर जमा किए गए पैसे की रसीद उपलब्ध होती है। जितने बार कर की राशि जमा की जाती है। उतने बार की रसीद वेबसाइट पर उपलब्ध होती है।

क्षेत्रीय प्रबंधक अमित श्रीवास्तव बताया कि फोन पे, गूगल पे, पेटीएम अन्य यूपीआइ अथवा किसी कर्मचारी के व्यक्तिगत खाते के माध्यम से टैक्स की वसूली नहीं की जाती है। इसलिए इन बातों को ध्यान में रखकर ही टैक्स का भुगतान करें।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local