Startup In Bhilai: भिलाई। छत्‍तीसगढ़ में कोरोना वायरस ने स्टार्टअप इंडस्ट्रीज के दायरे को और भी अधिक बढ़ा दिया है। कोविड के इन दो वर्षों में लोगों ने आनलाइन बिजनेस को बेहतर तरीके से समझा और उस पर भरोसा किया है। यही वजह रही कि कुछ दिनों की परेशानी के बाद सभी सेक्टर वापस पटरी पर लौट आए। ये तमाम बातें बांग्लादेश स्थित डाफोडील अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय में आंत्रप्रेन्योर इनोवेशन डिपार्टमेंट के प्रोफेसर आसिफ इकबाल ने कहीं। वे सोमवार को भिलाई के संतोष रूंगटा ग्रुप आफ कालेजेस के स्टूडेंट्स के साथ आनलाइन तरीके से जुड़े और स्टार्टअप की बारीकियां समझाईं। उन्होंने कहा कि टेक्नोलाजी और इनोवेशन से ही मैनुफैक्चरिंग इंडस्ट्री ने कोविड में भी काम नहीं रोका, बल्कि लोगों की जरूरत का सामान बनाने आटोमेशन का रुख किया। इस वजह से खाद्यान की कमी नहीं हो पाई। उन्होंने आगे कहा कि वे भारतीय स्टार्टअप के इकोसिस्टम पर स्टडी कर रहे हैं, ओला, ओयो और बायजूस जैसे स्टार्टअप बांग्लादेश को इस ओर मोटिवेट करते हैं।

शानदार भारतीय स्टार्टअप इकोसिस्टम

आंत्रप्रेन्योर टीचिंग प्रोफेशनल आसिफ ने कहा, भारत दुनिया का दूसरा सबसे बड़ा स्टार्टअप इकोसिस्टम यूनिट है, जिससे बांग्लादेश भी बहुत कुछ सीखता है। कोविड के दौरान बंद हुई कंपनियों पर उन्होंने कहा कि हमें नई स्किल्स सीखते रहना चाहिए ताकि वक्त के अनुसार अपने सोचने का तरीका और बिजनेस माडल को बदल सकें। दुनिया के सौ में से 95 फीसदी बिजनेस स्टार्टअप युवाओं ने शुरू किए। सबसे बड़ी बात थी कि वे सभी उस समय स्टूडेंट्स थे। यही समय सबसे बढिय़ा होता है, जब आप अपनी स्टार्टअप जर्मी को शुरू कर सकते हैं।

Posted By: Kadir Khan

NaiDunia Local
NaiDunia Local