भिलाई। क्या आपने कभी ऐसा सोचा है कि यदि आप कार चला रहे हो और आपको नींद आ रही हो चार पहिया वाहन चलाते वक्त नींद की झपकी आई तो आपको पहले अलार्म सोने नहीं देगा।

इसके बाद भी आप सोने की कोशिश करेंगे तो आपकी कार के चारों पहिए अपने आप थम जाएंगे। आटोमेटिक ब्रेक भी लग जाएगा। इसके लिए स्टूडेंट्स ने एक खास तरह का स्टेयरिंग कवर तैयार किया है।

यह तकनीक संतोष रूंगटा इंजीनियरिंग कालेज (रूंगटा आर-1) के स्टूडेंट्स ने तैयार की है। इंजीनियरिंग स्टूडेंट्स ने चार पहिया वाहन की स्टेयरिंग के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के माध्यम से ड्राइवर मानिटरिंग स्टेयरिंग कवर विथ आटोमेटिक ब्रेक कंट्रोल सिस्टम बनाया है, जिसमें लगे सेंसर्स स्टेयरिंग पकड़ने के तरीके को लगातार मानीटर करते रहेगा। स्टूडेंट्स ने एक खास तरह का स्टेयरिंग कवर तैयार किया है।

जिस पर नींद की झपकी की स्थिति में दबाव पड़ते ही सेंसर्स ब्रेक सिस्टम को कमांड देंगे। गाड़ी की रफ्तार के हिसाब से सेंसर्स ब्रेकिंग लागू करेगा ताकि अंदर बैठे लोगों को भी इसके झटके से बचाया जा सके।

भारत सरकार ने दिया पेटेंट

रूंगटा आर-1 (आरसीईटी) के स्टूडेंट्स द्वारा डेवलप इस स्टेयरिंग कवर को भारत सरकार के पेटेंट एंड डिजाइन विभाग ने पेटेंट भी जारी कर दिया है। स्टूडेंट्स ने गाड़ियों में इसका सफल परीक्षण भी कर लिया है। भारतीय पेटेंट कार्यालय कोलकाता ने स्टूडेंट को हाल ही में इसका पेटेंट सर्टिफिकेट सौंप है।

क्या है यह स्टेयरिंग कवर

यह एडवांस स्टेयरिंग कवर आम सा ही दिखेगा, लेकिन कवर के अंदर कई तरह के सेंसर्स लगाए गए हैं। सबसे खास बात यह भी है कि इसे किसी भी चार पहिया वाहन में लगाया जा सकता है। इसके लिए वायरिंग को बिना कोई नुकसान किए कपलर युक्त सिस्टम के जरिए ब्रेकिंग को जोड़ा जाता है।

कवर के अंदर लगे सेंसर हर एक तरह की मेमोरी पर कार्य करता है, जिसे ड्राइविंग करते वक्त ड्राइवर की कंडीशन और हैंडलिंग जैसी सभी तरह की जानकारियां फीड होती चली जाती है। स्टेयरिंग घुमान के तरीके से लेकर उसे पकड़ने तक का पैटर्न इसमें फीड होता है।

इन्होंने किया तैयार

इस एडवांस स्टेयरिंग कवर को रूंगटा आर-1 के आटोमोबाइल और मैकेनिकल इंजीनियरिंग विभाग ने साथ मिलकर तैयार किया है। जिसमें कमल दास, आदर्श वर्मा, मोहनीष वर्मा, के. लावण्या, दीपांकर शामिल रहे। आरसीईटी के प्राचार्य डा. राकेश हिमटे और आईपीआर सेल इंचार्ज प्रोफेसर रामकृष्ण राठौर ने मार्गदर्शन दिया।

स्टूडेंट्स जल्द ही इस प्रोडक्ट को आटोमोबाइल कंपनियों से साझा करने के साथ-साथ केंद्र सरकार के सामने प्रजेंटेशन देने वाले हैं।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close