भिलाई। दुर्ग के पटेल चौक पर सोमवार को हुए सड़क हादसे में जान गंवाने वाले दोनों भाई मन्नाूलाल साहू (56) और बीरबल साहू (48) अपनी जमीन की रजिस्ट्री के लिए रजिस्ट्रार आफिस जा रहे थे।

रुपयों की जरूरत के चलते उन्होंने बोरसी स्थित अपनी जमीन का सौदा किया था और उसकी ही सोमवार को रजिस्ट्री होने वाली थी। लेकिन, पटेल चौक पार करते समय ही वे दोनों ट्रक की चपेट में आ गए।

मृतक मन्नूलाल साहू भिलाई इस्पात संयंत्र में ठेका श्रमिक का काम करता था। वहीं छोटा भाई बीरबल साहू मजदूरी करता था। मन्नाूलाल साहू की दो बेटियां और एक बेटा है।

जिसमें से एक बेटी की शादी हो चुकी है। बीरबल साहू के भी तीन बच्चे हैं। जिसमें दो बेटे और एक बेटी है। दोनों भाई एक ही स्कूटी से जा रहे थे। वहीं परिवार के बाकि सदस्य आटो से रजिस्ट्रार आफिस पहुंच रहे थे। प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक आरोपित ट्रक चालक भिलाई से राजनांदगांव जाने वाली दिशा में आगे बढ़ रहा था।

इसी दौरान दोनों भाइयों ने रेड सिग्नल जंप कर चौक पार करने की कोशिश की और ट्रक की चपेट में आ गए। हादसे के बाद चौक के चारों तरफ काफी जाम लग गया था।

जिसे सामान्य करने में पुलिस को काफी ज्यादा मशक्कत करनी पड़ी। पटेल चौक से होकर लोग कलेक्टोरेट, जिला न्यायालय,तहसील कार्यालय और स्टेशन रोड की ओर आना जाना करते हैं। इस कारण भी चौक पर सुबह से लेकर देर रात तक भीड़ नजर आती है। सोमवार को हादसे में दो लोगों की मौत के बाद राजनीतिक दलों के बीच आरोप प्रत्यारोप शुरू हो गई है।

यातायात व्यवस्था दुरुस्त करने ट्रैफिक, पीडब्ल्यूडी, निगम बनाए प्लान : वोरा

इस हादसे के बाद स्टेट वेयर हाउसिंग कार्पोरेशन के चेयरमैन व वरिष्ठ कांग्रेस विधायक अरुण वोरा ने दुर्ग शहर की चौपट ट्रैफिक व्यवस्था सुधारने व्यापक स्तर पर पहल करने कहा है।

उन्होंने कहा कि ध्वस्त हो चुकी ट्रैफिक व्यवस्था को दुरुस्त करने की दिशा में ठोस पहल करने की आवश्यकता है। नगर निगम, पीडब्ल्यूडी विभाग, सेतु विभाग और यातायात विभाग को संयुक्त प्लान बनाकर काम करना होगा।

भाजपा ने दी आंदोलन की चेतावनी

हादसे पर जिला भाजपा अध्यक्ष जितेंद्र वर्मा ने आक्रोश जताते हुए कहा है कि ये शहर की बदहाल यातायात व्यवस्था का जीता जागता प्रमाण है। अगर दुर्ग जिले की यातायात और कानून व्यवस्था नही सुधरी तो आने वाले दिनों में शासन प्रशासन के खिलाफ जनांदोलन किया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close