बीजापुर। जिले में 20 जनवरी को पंचायत के रिक्त हुए पंच, सरपंच, जनपद सदस्य एवं जिला पंचायत सदस्य के पदों के लिए वोट डाले गए। इसमें ग्राम पंचायत उसूर के सरपंच पद का उप-चुनाव खासा चर्चा में रहा। यह सीट अविश्वास प्रस्ताव द्वारा पूर्व सरपंच मनोज गटपल्ली को पदच्युत कर दिया था। इस उपचुनाव में कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी जीवन कलमु की ओर से चुनाव प्रचार का कमान जिला पंचायत बीजापुर के उपाध्यक्ष व युवा कांग्रेस के प्रदेश सचिव कमलेश कारम संभाले हुए थे।

वहीं दूसरी ओर उनके सामने उसूर के ही भीमा कट्टम थे। चुनावी घमासान के बीच लोकप्रिय भीमा कट्टम ने अपने कुशल रणनीतिज्ञ व का परिचय देते हुए कांग्रेस समर्थित प्रत्याशी जीवन कमलु को 118 के मुकाबले 206 वोटों से पटकनी देते हुए ग्राम पंचायत उसूर के सरपंच पद पर काबिज हो गए है। भीमा कट्टम 15 वर्षों तक उपसरपंच रहते ग्रामीणों के बीच अपनी अलग पहचान बनाने में कामयाब रहे। जानकारी अनुसार उसूर ब्लाक कांग्रेस संगठन में असंतोष व गुटबाजी से यह परिणाम आया है।

अपने ही क्षेत्र में नकारे गए

जिला पंचायत उपाध्यक्ष कमलेश कारम का क्षेत्र क्रमांक 10 उसूर स्वयं का निर्वाचन क्षेत्र भी है। जिन कार्यकर्ताओं ने उन्हें जिला पंचायत निर्वाचन में भारी मतों से जिताया था उन्ही मतदाताओं ने उनके समर्थित प्रत्याशी जीवन कलमु को गच्चा देते हुए उनके प्रतिद्वंद्वी भीमा कट्टम को विजयश्री दिलाई। उसूर पंचायत उप चुनाव में कुल 358 मत पढ़े जिसमें 06 मत खारिज हुए और 352 वैध मत थे। एक अन्य प्रत्याशी प्रत्याशी मनोज गटपल्ली को 28 मत मिले। इस जीत के साथ ही भीमा कट्टम ने अपने समर्थकों के साथ गांव में रैली निकालकर मतदाताओं का आभार व्यक्त किया।

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local