बीजापुर। Bijapur Air strike on Naxalites हवाई हमले के लिए मुखबिरी करने के आरोप में बोटेतोंग निवासी ताती हड़मा को माओवादियों ने मौत की सजा दी। 26 जनवरी से पहले माओवादियों के दक्षिण बस्तर डिविजनल कमेटी की सचिव गंगा ने प्रेस नोट जारी किया है और इस हत्या की जिम्मेदारी ली है। जानकारी के अनुसार माओवादी ठिकानों पर हुए हवाई हमले मामले में स्कूल जाने के नाम पर मोबाइल फोन के जरिये मुखबिरी करने और माओवादी ठिकानों की जानकारी पुलिस तक पहुंचाने का आरोप लगाया है।।

बता दें यह मामला 11 जनवरी को सुकमा और बीजापुर की सीमा पर माओवादी ठिकानों पर हुए हवाई हमले का है। प्रेस नोट में माओवादी नेता ने लिखा है कि इस हमले के लिए ताती हड़मा ने पुलिस को सटिक लोकेशन शेयर किया था। माओवादी नेता का आरोप है कि तीन साल पहले दंतेवाड़ा में 12 में पढ़ रहे ताती हड़मा को डरा, धमका और पैसों का लालच देकर पुलिस ने मुखबिर बनाया था। 11 जनवरी के हमले के तुरंत बाद माओवादियों ने ताती हड़मा को पकड़ रखा था, उसके बाद उसे मौत की सजा दी गयी।

11 जनवरी को सुरक्षा बलों ने नक्सलियों पर की थी एयरस्ट्राइक

गौरतलब है कि 11 जनवरी को छत्तीसगढ़ के सुकमा और बीजापुर जिले की सीमाई क्षेत्र में सुरक्षा बलों की ओर से नक्सलियों पर एयर स्ट्राइक किए गए थे। इस हमले में तीन नक्सली के मारे गिराने व दो नक्सलियों के घायल होने की सूचना मिली थी। वहीं नक्सलियों की ओर से भी सुरक्षा बलों के चापर पर गोलीबारी की गई थी, जिसमें कुछ जवान के घायल हो गए थे। सीआरपीएफ की ओर से आधिकारिक बयान जारी कर कहा गया था कि फारवर्ड बेस कैम्प में जवानों को हेलीकाप्टर से शिफ्ट किए जाने के दौरान नक्सलियों ने गोलीबारी की थी, जिसमें जवाबी कार्रवाई में नक्सली भाग खड़े हुए थे। सभी जवान सुरक्षित रहने की जानकारी दी गई थी।

Posted By: Vinita Sinha

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close