बीजापुर। क्षेत्र में मनरेगा के तहत कई कार्य होने बावजूद भी मजदूरों का पलायन नही थम रहा, पलायन रोकने में जिला प्रशासन पूरी तरह से विफल साबित हो रहा है। भारतीय जनता पार्टी की ओर से लगातार मजदूर पलायन के मुद्दे पर सरकार और जिला प्रशासन को घेरा जा रहा है, इसके बावजूद भी आये दिन सैकड़ों मजदूर दूसरे प्रदेश पलायन कर रहे हैं। भाजपा जिला अध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार द्वारा बार- बार क्षेत्रीय विधायक और जिला प्रशासन पर पलायन रोकने में नाकाम होने का आरोप लगाया है।

श्रीनिवास मुदलियार ने कहा है क्षेत्र में मनरेगा के तहत कई कार्य हो रहे हैं जिसमें अपने चहेतों को काम देकर मशीनों के माध्यम से कार्य किया जा रहा है। जो प्रशासन की मिलीभगत में काम कर रहे है। जिस कारण मजदूर पलायन कर रहे हैं, प्रशासन और क्षेत्र के विधायक मूकदर्शक बनकर बैठे हैं। जबकि इसके पहले भी शासन-प्रशासन और विधायक के संज्ञान में भी लाया गया, किंतु सभी की भागीदारी होने से कोई कार्रवाई नहीं हो सका है। पूरे देश मे इन दिनों कोविड काल चल रहा है,ऐसे में पलायन आदिवासी मजदूरों पर कोविड का भी खतरा रहेगा।

जिला कलेक्टर को संज्ञान में लेकर जल्द ही पलायन रोकने की उचित व्यवस्था किया जाना चाहिए। शुक्रवार को स्थानीय बस स्टैंड में भी भाजपाइयों ने सैकडों मजदूर जो गंगालूर क्षेत्र से तेलंगाना जाने के लिए आये थे, उन्हें रोकने की कोशिश की पर वह नाकामयाब रहे। जिलाध्यक्ष श्रीनिवास मुदलियार का कहना है हमने इसकी शिकायत प्रशासन से की है, अब प्रशासन का काम है इस पर कार्यवाही करे। भाजपा जिलाध्यक्ष का यह भी कहना कि इस क्षेत्र के मजदूरों का पलायन किसके माध्यम से हो रहा, कौन ठेकेदार है जो इस प्रकार के कार्यों में शामिल हैं इसका पता लगाना चाहिए।

काम की तलाश में जिले के मजदूर

जिले के मजदूर काम की तलाश में पैदल मार्च कर सीमावर्ती राज्य में चले जाते है। जगंल के रास्ते सैकड़ों मजदूरों का जाना कोई नई बात नहीं है। यह सिलसिला वर्षों से जारी है। जंगल से पैदल सफर तय कर दूसरे राज्य जा रहे, मजदूरों के सामने प्रशासन भी बेबस है। प्रशासनिक स्तर पर प्रचार-प्रसार व ग्राम पंचायतों के माध्यम से पलायन रोकने के सारी कोशिशें जारी हैं।

पलायन को लेकर शिकायत नहीं

इस संबंध में मेरे पास मजदूरों के पलायन को लेकर शिकायत नहीं मिली है। जिले में मनरेगा योजना में काफी काम है। इसके बाद भी कोई मजदूर काम करने के लिए जाना चाहता है, तो ग्राम पंचायत के पलायन पंजी में जानकारी दे जा सकता है। पलायन रोकने के लिए प्रशासनिक स्तर पर प्रयास किया जा रहा है।

-देवेश ध्रुव, एसडीएम बीजापुर

Posted By: Nai Dunia News Network

NaiDunia Local
NaiDunia Local