भोपालपटनम। राज्य की सीमा पर बाढ़ का पानी सरहद की लकीर बनकर कई भाइयों की कलाई सुनी कर दी है। भोपालपटनम सरहदी इलाके के तेलंगाना, महाराष्ट्र में विवाहित बहनें अपने भाइयों को राखी बांधने के लिए तरसती रह गई। एनएच 63 महाराष्ट्र के सोमनपल्ली नाले में पानी रोड पर आने के कारण मंगलवार से नेशनल हाइवे पूरी तरह बाधित हो गया है। तीन दिनों से गाड़ियों का आना-जाना पूरी तरह बंद है। रक्षाबंधन के दिन भी बाढ़ का पानी कम नहीं हुआ है। राखी बांधने के निकलीं बहने नाले तक आकर हाईवे पर पानी भरा हुआ देखकर मायूस अपने घर लौट रहीं थीं, जिसके कारण कई भाइयों के हाथ खाली रह गए है।

रक्षाबंधन भाई और बहन का सबसे बड़ा पर्व माना जाता है। इस त्योहार में बहनें अपने भाई की कलाई पर राखी बांधती है, उनका मुंह मीठा कराती है और लंबी उम्र की कामना करती हैं। भाई और बहन के पवित्र बंधन को जोड़ने वाला रेशम का एक धागा बहुत महत्व रखता है, लेकिन जो भाई-बहन दूर रहती हैं और रक्षाबंधन के मौके पर मिल नहीं सकते उनके लिए रक्षाबंधन का पर्व अधूरा लगता है। इस वर्ष रक्षाबंधन के मौके पर उफनते नदी नाले के कारण से बहनें नहीं आ पाई है और भाई भी उन तक नही पहुंच पाया है। ऐसे में रक्षाबंधन पर भाई की कलाई राखी के बिना सूनी रह गई है। देखा जाए तो अधिकतर भोपालपटनम इलाके के निवासियों का रिश्ता तेलंगाना, महाराष्ट्र से जुड़ा हुआ है। अधिकतर शादियां पड़ोसी राज्य से ही होती है। इंद्रावती में ब्रिज बनाने के बाद लोगों में बड़ी उम्मीदें जागी थी। सगे संबंधियों से मिलने जब पड़े तब मिलने चले जाते थे। लेकिन बरसात के दिनों में नदी, नालों का पानी रोड पर आ जाता है, जिससे आवागमन बंद हो जाता है। इस बार बाढ़ ने राखी के त्योहार पर पानी फेर दिया है।

Posted By:

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close