बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

रेलवे में चल रहे निर्माण कार्य व प्रस्तावित को गति देने के लिए रेलवे ने नई व्यवस्था लागू की है। इसके तहत 100 दिन का एक्शन प्लान बनाया गया है। इसके तहत अलग-अलग कार्यों को पूरा करने की अवधि तय कर दी गई। इसके अनुसार अफसर से लेकर मैदानी अमला तैयारी करेगा।

बजट के आधार पर रेलवे सालभर निर्माण कार्य करती है। इसके बाद भी किसी न किसी अड़ंगे के चलते वह पूरा नहीं हो पाता है। जिसका सीधा असर यात्रियों की सुविधा पर पड़ता है। आगामी दिनों में ऐसा नहीं होगा। रेलवे में पहली बार सुरक्षा, संरक्षा, यात्री सुविधा व अधोसंरचना की दृष्टि से महत्वपूर्ण कार्यों को कम से कम समय में पूरा करने की योजना बनाई गई है। इसके लिए रेल मंत्रालय से आदेश आया था। इसके बाद दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के प्रभारी जीएम अजय विजयवर्गीय ने तीनों मंडल रायपुर, बिलासपुर व नागपुर के डीआरएम को एक्शन प्लान बनाकर काम को पूरा करने के निर्देश दिए हैं। सभी जगह से रिपोर्ट आने के बाद जोन स्तर पर प्लान तैयार हुआ है।

प्लॉन में यह कार्य शामिल

रेलपाथ का नवीनीकरण, सेक्शन में ट्रेनों की रफ्तार में वृद्धि , मानवसहित समपार फाटकों को हटाना, भूमि का बेहतर उपयोग कर उससे राजस्व प्राप्त करना, नए एफओबी का निर्माण, रेन वाटर हार्वेस्टिंग, प्लेटफार्म का विस्तार, सेक्शन की क्षमता बढ़ाने आटोमेटिकम सिग्नलिंग, सीसीटीवी लगाना, गुड्स शेड के आसपास ग्रीन बेल्ट, मोबाइल एप से अनारक्षित टिकटों की बिक्री को चार प्रतिशत से बढ़ाकर सात प्रतिशत तक लाना, ईधन के उपयोग में कमी लाना समेत कई कार्य शामिल हैं।