बिलासपुर। तिफरा निवासी 12 साल के बालक ने पुलिस की सक्रियता परखने के लिए डायल 112 में अपने ही अपहरण की सूचना दे दी। इसके बाद वह फोन बंद कर खेलने लग गया। इधर, अपहरण की सूचना पर पुलिस ने शहर में नाकेबंदी शुरू कर दी। साथ ही रेलवे स्टेशन में निगरानी की जाने लगी। डेढ़ घंटे की मशक्कत के बाद बालक मोहल्ले में खेलते हुए मिला। इसके बाद पुलिस ने परिवार की उपस्थिति में उसे समझाइश दी।

एएसपी उमेश कश्यप ने बताया कि दोपहर 12 बजे डायल 112 के रायपुर स्थित कमांड सेंटर से सूचना मिली कि तिफरा में 12 वर्षीय बालक का अपहरण होने की सूचना मिली है। अपहरणकर्ता बालक को सफेद वैन में ले गए हैं। इससे पुलिस अधिकारियों के होश उड़ गए। इसके बाद जिस नंबर से डायल 112 में फोन किया गया था, उसका लोकेशन खोजा गया।

साथ ही शहर में नाकेबंदी शुरू कर कड़ाई से जांच होने लगी। एक टीम तिफरा में बच्चे की जानकारी लेने लगी। तिफरा में पूछताछ के दौरान लोगों ने किसी तरह की घटना से इन्कार किया। वहीं, मोबाइल बंद होने से पुलिस को लोकेशन भी नहीं मिल रहा था। इसके बाद पुलिस ने तिफरा में टीम बनाकर बच्चों की जानकारी लेनी शुरू कर दी। डेढ़ घंटे बाद पुलिस को दो बच्चे खेलते मिले।

पुलिस ने बच्चों से पूछताछ की तो एक ने अपहरण होने वाले बच्चे का नाम बताया। पूछताछ में बच्चे ने बताया कि पुलिस की सक्रियता देखने के लिए उसने डायल 112 में फोन किया था। इसके बाद पुलिस ने राहत की सांस ली।

संजीवनी नहीं पुलिस पर करेगा भरोसा

बच्चे ने बताया कि शुक्रवार को उसने सबसे पहले संजीवनी एक्सप्रेस की सक्रियता देखने के लिए फोन किया था। इसमें उनके खुद के दुर्घटनाग्रस्त होने की सूचना दी थी। इसके जवाब में संजीवनी के कमांड सेंटर से डायल 112 को फोन करने की सलाह दी गई।

इसके बाद फोन काट दिया गया। बच्चे ने बताया कि आपात स्थिति में संजीवनी के बजाय वह पुलिस पर भरोसा करेगा।

Posted By: anil.kurrey

NaiDunia Local
NaiDunia Local