बिलासपुर। नईदुनिया प्रतिनिधि

अब आरपीएफ के अधिक से अधिक जवान वर्दी पर कैमरा लगाकर ड्यूटी कर सकेंगे। बिलासपुर पोस्ट को 15 नए बॉडी वार्न कैमरे दिए गए हैं। इसके आने से पोस्ट में 20 कैमरे हो गए हैं। इससे अब ट्रेन व प्लेटफार्म में भी बेहतर ढंग से गतिविधियों की निगरानी की जा सकती है।

चलती ट्रेनों में महिला रेल यात्रियों से छेड़छाड़, चोरी की वारदातों या अन्य आपराधिक वारदातों पर लगाम लगाने के लिए दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे सुरक्षा बल जवानों की वर्दी पर बॉडी वॉर्न कैमरे लगाने का निर्णय लिया गया था। अप्रैल में यह योजना अस्तित्व में आई। हालांकि शुरुआती दौर में केवल पांच- पांच कैमरे दिए गए थे। बिलासपुर आरपीएफ पोस्ट में इसका उपयोग तो किया जा रहा था। लेकिन केवल पांच बल सदस्यों को ही मिल पाता था। जब यहां ट्रेनों के अलावा यात्रियों की बड़ी तादात है। इसे देखते हुए उसी समय और कैमरे खरीदने की निर्णय लिया गया था। अब जाकर कैमरे खरीदे गए हैं। पोस्ट को 15 कैमरे दिए गए हैं। अक्सर पब्लिक द्वारा रेलवे में शिकायत होती है कि जवानों द्वारा लोगों से बदसलूकी की जाती है और कई बार वर्दी की धौंस दिखाते हुए अवैध वसूली की जाती है। लोगों की इसी शिकायत से बचने के लिए आरपीएफ जवानों की वर्दी में कैमरा लगाने का फैसला लिया है। इस बॉडी कैमरे में लगातार आठ घंटों की रिकार्डिंग क्षमता मौजूद है। कैमरे में रिकार्डिंग होने के बाद रोजाना ड्यूटी करने वाले आरपीएफ जवान को जिनकी वर्दी में कैमरा लगा हो उन्हें यह कैमरा आरपीएफ पोस्ट में जमा करना होगा। यहां चार्जिंग के लिए अलग से मशीन लगाई गई है। बॉडी वार्न कैमरा 16 पिक्सल की क्षमता वाले हैं तो सेल्फ रिकॉर्डिंग है। इसमें नाइट विजन कैमरा भी लगा है ताकि यदि लाइट नहीं हो तो ऐसी स्थिति में भी रिकार्डिंग हो सकती है। अभी मिले कैमरों का उपयोग ट्रेनों के अलावा प्लेटफार्म में ड्यूटी करने वाले जवानों को दिया जाएगा।

Posted By: Nai Dunia News Network

fantasy cricket
fantasy cricket