बिलासपुर। सेंट जान एंबुलेंस ब्रिगेड के स्थापना दिवस के अवसर पर दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के चिकित्सा विभाग की ओर से सेंट जान एंबुलेंस ब्रिगेड द्वारा प्राथमिक चिकित्सा और बुनियादी जीवन समर्थन प्रशिक्षण विषय पर एक संगोष्ठी एवं प्रशिक्षण कार्यशाला का आयोजन किया गया। नार्थ ईस्ट इंस्टीट्यूट सभागार में आयोजित इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि जोन के महाप्रबंधक आलोक कुमार थे। इसके साथ ही अपर महाप्रबंधक विजय प्रताप सिंह, मंडल रेल प्रबंधक आलोक सहाय, प्रधान मुख्य चिकित्सा निदेशक डा. पीके सरदार तथा इंडियन मेडिकल एशोसिएशन (आईएमए) के अध्यक्ष डा. संदीप तिवारी उपस्थित थे।

प्रशिक्षण कार्यशाला में रेलवे सुरक्षा बल, स्काउट्स एंड गाइड्स, सिविल डिफेंस, रेलवे स्कूल के शिक्षकों और रेल कर्मियों सहित लगभग 200 प्रतिभागियों ने भाग लिया। इस अवसर पर बेसिक लाइफ सपोर्ट डा. अतनु भट्टाचार्य (सीपीआर) द्वारा पर एक प्रस्तुति दी गई और इसके बाद उपस्थित प्रतिभागियों द्वारा उपरोक्त विषय पर प्रदर्शन किया। सेंट जान एंबुलेंस भारतीय रेड क्रास सोसाइटी का एक विंग है जो प्राथमिक चिकित्सा और बुनियादी जीवन समर्थन में प्रशिक्षण प्रदान करता है और साथ ही किसी भी आपात स्थिति में चिकित्सा के मामले में प्राथमिक प्रतिक्रियाकर्ता के रूप में कार्य करता है।

संगोष्ठी एवं कार्यशाला को संबोधित करते हुए महाप्रबंधक आलोक कुमार ने इस पहल की सराहना की और प्रतिभागियों को जीवन रक्षक कौशल सीखने के अवसर का उपयोग करने के लिए प्रोत्साहित भी किया। यह प्रशिक्षण बेहतर कारगर होता है। इसमें परिपक्व व्यक्ति संघर्षों का आसानी से मुकाबला कर लेता है।

इसके अलावा अपर महाप्रबंधक विजय प्रताप सिंह ने कोविड महामारी के दौरान सेंट जान एंबुलेंस ब्रिगेड के स्वयंसेवकों के प्रयासों की सराहना की सभी सदस्यों की पीठ थपथपाई। उनका अतुलनीय है। डा. संदीप तिवारी ने आईएमए के सहयोग से अधिक प्रशिक्षण कार्यक्रम आयोजित करके गैर रेलवे आबादी तक पहुंच बढ़ाने का प्रस्ताव रखा। जिसकी सभी ने सराहना की।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close