रायगढ़। सारंगढ-बिलाईगढ़ जिले के ग्राम टिमरलगा,गुडेली, गोड़म स्थित क्रेशर, लाइमस्टोन, डोलोमाइट खदान संचालक नियमों को ताक में रखकर खनन व अन्य कार्यो को अमलीजामा पहना रहे है। शासन को राजस्व क्षति के साथ पर्यावरण कानून एनजीटी का उल्लंघन कर रहे थे। ऐसे में लंबी खामोशी के बाद शनिवार देर शाम आधा दर्जन पर कार्रवाई कर खदानों को सील करने की कार्रवाई कलेक्टर फरिहा आलम के निर्देश में की गई।

सारंगढ़ बिलाईगढ़ कलेक्टर डा . फरिहा आलम सिद्दीकी ने टिमरलगा और गुड़ेली क्षेत्र के क्रशरों पर कार्रवाई का आदेश दिया है । शनिवार को खनिज अधिकारी योगेंद्र सिंह ने गुड़ेली में कार्रवाई की । उनके साथ आरआई भी थे । केवल भंडारण लाइसेंस धारकों की ही जांच की गई । मां शारदा मिनरल्स , सालासर मिनरल्स , मंगल स्टोन अनियमितता के कारण सील कर दिया गया है । इसके अलावा चंद्रहासिनी क्रशर में भी जांच की गई । वहां भी गड़बड़ी मिली तो तीन दिन का नोटिस दिया गया है । जानकारी के अनुसार कलेक्टर के निरीक्षण के दौरान बिल्टी पर्ची रेड्डी खनन परिवहन समेत कई दस्तावेज में गफलत की जानकारी सामने आई। इसके अलावा मौके पर स्पष्ट रूप से प्रयोग उल्लंघन भी देखने को मिला है। वही उद्योगों से निकलने वाले वेस्ट आसपास के ग्रामीण अंचल भी प्रभावित हो रहे है। यही वजह है कि इन 4 उद्योगों को सील कर दिया गया जबकि अन्य से दूर रहे।

रायल्टी से ज्यादा का खनन और परिवहन

जिन क्रशरों में केवल क्रशिंग प्लांट हैं, वे एक पर्ची पर एक से ज्यादा राउंड लगवाते हैं। वैध खनिज पट्टे से ही पत्थर खरीदने होते हैं। मां शारदा मिनरल्स में अवैध खदानों से पत्थरों की आवक बहुत अधिक है। खनिज विभाग ने एसेसमेंट के दौरान कभी इस बात की जांच ही नहीं की कि क्रशर में पत्थर कहां से लाए गए। इसके बाद गिट्टी भी तय अनुमति से अधिक भंडारित की गई। यह केवल अधिकारियों के संरक्षण में ही चल रहा है।

ग्रामीणों से वैध के मुकाबले दस गुना अवैध खनन की चर्चा

सूत्रों के मुताबिक मां शारदा मिनरल्स व अन्य कई क्रेशर संचालक ने टिमरलगा और गुड़ेली क्षेत्र के ग्रामीणों को अवैध खनन का ठेका दिया है। प्रति ट्रैक्टर बोल्डर सप्लाई का काम सौंपा है। इसके अलावा वैध पट्टों से भी कुछ मात्रा में खरीदी होती है । खनिज विभाग से प्राप्त रायल्टी पर्ची का उपयोग अवैध पत्थरों को वैध बनाने में किया जाता है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close