बिलासपुर। Corona Vaccination: 45 प्लस टिकाकरण का हाल बेहाल हैं, इन दिनों हर केंद्र में महज 10 से 15 हितग्राहियों को टिका लग रहा है। केंद्र में लक्ष्य के अनुरूप लोगों के नहीं पहुचने से टिका के खराब होने की आशंका बढ़ चुकी है, ऐसे में जब तक 10 वैक्सीन लगवाने वाले नहीं मिल जाते हैं, तब तक वैक्सीन की वाईल को नहीं खोला जा रहा है, इससे भी कई बार लोग ज्यादा समय लगने की वजह से वैक्सीन लगाए बिना ही वापस हो जा रहे है।

कोविशिल्ड वैक्सीन की एक डोज की कीमत 2500 रुपए है। जबकि वैक्सीन की एक वाईल में 10 डोज की रहती है और वाईल खोला गया और सभी 10 डोज नहीं लगे तो बचे डोज चार घंटे के भीतर खराब हो जाता है। ऐसे में इस प्रकार की हानि से बचने के लिए ही हर केंद्र में जब तक टिका लगाने वाले 10 हितग्राही नहीं हो जाते हैं तब तक वाईल को नहीं खोला जाता है। यह उस समय ठीक था जब टीका लगाने के लिए केंद्रों में भीड़ उमड़ रही थी, लेकिन अब ज्यादातर पात्र को टीका लग चुका है।

ऐसे में अब केंद्रों में नाममात्र के टिका लग रहे हैं, आलम यह है कि सिम्स, जिला अस्पताल जैसे बड़े केंद्रों में भी मुश्किल से 10-15 लोगो को टिका नहीं लग पा रहा है। ऐसे में छोटे केंद्रों का और भी हाल बेहाल हैं। मौजूदा स्थिति में वैक्सीन को खराब होने से बचाना भी एक बड़ी चुनोती बन गई है, इधर अधिकारियों के भी निर्देश है कि डोज खराब नहीं होना चाहिए, ऐसे में अब केंद्र कर्मी जब तक वैक्सीन लगाने के लिए 10 लोग नहीं पहुच जाते, तब तक वाईल को नहीं खोल रहे हैं, ऐसे लोगों को परेशानी हो रही है और कई बार इन्हें बिना वैक्सीन लगाए ही वापस लौटना पड़ रहा है। यह भी टीकाकरण कम होने का एक बड़ा कारण बन रहा है।

Posted By: sandeep.yadav

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

नईदुनिया ई-पेपर पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

डाउनलोड करें नईदुनिया ऐप | पाएं मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ और देश-दुनिया की सभी खबरों के साथ नईदुनिया ई-पेपर,राशिफल और कई फायदेमंद सर्विसेस

NaiDunia Local
NaiDunia Local
 
Show More Tags