बिलासपुर। शहर में 300 से अधिक नर्सिंग होम और 400 से ज्यादा पैथोलाजी, डायग्नोस्टिक सेंटर का संचालन हो रहा है। अधिकांश पैथोलाजी और नर्सिंग होम मेन रोड पर स्थित हैं। इसमें पार्किंग की व्यवस्था नहीं है। ऐसे में यहां आने वाले लोग वाहन सड़क पर खड़ा करते हैं। इससे न केवल ट्रैफिक व्यवस्था खराब हो रही है, बल्कि बार-बार जाम भी लग रहा। इस समस्या को दूर करने के लिए महापौर रामशरण यादव ने निगम के अफसरों को शहर के सभी नर्सिंग होम का सर्वे करने को कहा है। जहां पार्किंग की सुविधा नहीं है, उनकी सूची तैयार कर कार्रवाई की जाएगी।

शहर के ज्यादातर नर्सिंग होम्स और डायग्नोस्टिक सेंटर में पार्किंग नहीं है। इससे नगर निगम व ट्रैफिक पुलिस की समस्या बढ़ गई है। जाम लगने के कारण लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। नगरीय प्रशासन की तरफ से सख्त निर्देश हैं कि इस तरह की व्यावसायिक गतिविधियां संचालित करने के लिए पार्किंग की व्यवस्था होनी जरूरी है। अब इन्हें चिन्हांकित किया जाएगा।

मुख्य मार्ग पर हादसे का खतरा

शहर के कोन्हेर गार्डन से लेकर सिम्स के आसपास सर्वाधिक नर्सिंग होम्स, क्लीनिक एंड डायग्नोस्टिक सेंटर संचालित हैं। इनके सामने बड़ी संख्या में गाड़ियां नो-पार्किंग में खड़ी रहती हंै। मेन रोड पर वाहनों की लाइन लगने के कारण हादसे का भी डर रहता है। वहीं, सिम्स अस्पताल जाने वाली एंबुलेंस को भी परेशानी का सामना करना पड़ता है।

बिना पार्किंग जारी नहीं हो सकता लाइसेंस

निजी अस्पतालों और नर्सिंग होम्स को लाइसेंस देते समय पार्किंग की व्यवस्था भी देखी जाती है। अस्पताल या नर्सिंग होम शुरू करने से पहले विभाग की टीम को मौके पर पार्किंग दिखानी होती है। बिना पार्किंग सुविधा देखे ही नर्सिंग होम एक्ट के तहत लाइसेंस जारी नहीं हो सकता। लाइसेंस जारी करने से पहले चीफ मेडिकल हेल्थ आफिसर के निर्देश पर एक टीम मौके का जायजा लेती है। पार्किंग समेत तमाम व्यवस्था देखने के बाद ही लाइसेंस जारी किया जाता है।

शहर की मुख्य सड़कों पर ही ज्यादातर नर्सिंग होम्स और डायग्नोस्टिक सेंटर संचालित हैं। लगातार ट्रैफिक जाम की शिकायतें मिल रही हैं। नगर निगम की अतिक्रमण शाखा मुख्य सड़कों पर अतिक्रमण करने वाले ठेले, गुमटी वालों पर तो कार्रवाई कर रही है। अब नगर निगम के अफसरों को बिना पार्किंग वाले नर्सिंग होम्स पर भी कार्रवाई करने को कहा गया है।

रामशरण यादव

महापौर

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close