बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। एंटी क्राइम एंड साइबर यूनिट की टीम ने केंद्रीय स्कूल के शिक्षक से 21 लाख की धोखाधड़ी के मामले में चार आरोपित को राजस्थान से गिरफ्तार किया है। वहीं, मामले में दो आरोपित फरार हैं। उनकी तलाश की जा रही है। टीम ने पांच दिनों तक राजस्थान के अलग-अलग शहरों में डेरा डालकर यह कार्रवाई की है।

तोरवा क्षेत्र के सांईधाम में रहने वाले अमलेश लहरी(55) केंद्रीय विद्यालय में शिक्षक हैं। उन्होंने 27 अगस्त को धोखाधड़ी की शिकायत की थी। शिक्षक ने बताया कि उनके मोबाइल पर वाट्सएप के माध्यम से मैसेज मिला। इसमें उन्हें पार्ट टाइम नौकरी आफर की गई। इसे स्वीकार करने पर उन्हें टेलीग्राम एप के माध्यम से एक लिंक दिया गया। इस लिंक से जुड़ने पर उनसे कुछ रकम भेजकर रिचार्ज कराने कहा गया। रिचार्ज कराने के साथ ही उन्हें कुछ स्र्पये कमीशन के रूप में मिले।

इसके बाद उन्होंने ज्यादा कमाई में लालच में आकर करीब 21 लाख स्र्पये जालसाजों के कहने पर अलग-अलग बैंक खातों में जमा कराए। बाद में उन्हें कमीशन मिलना बंद हो गया। इसके बाद उन्हें धोखाधड़ी की आशंका हुई। उन्होंने मामले की शिकायत तोरवा थाने में की। इस पर पुलिस जुर्म दर्ज कर मामले की जांच कर रही थी। साइबर सेल के माध्यम से आरोपित की जानकारी जुटाने के बाद एसपी पास्र्ल माथुर ने एसीसीयू की 10 सदस्यी टीम को राजस्थान रवाना किया।

टीम ने राजस्थान के पाली निवासी राहुल सुथार(19), राजकुमार उर्फ राजू सिंधी(38) निवासी भिनय राजस्थान, हेमराज बैरवा(25) निवासी भिनय राजस्थान और दीपेश वैष्णव उर्फ दीपू(19) निवासी लंबारे राजस्थान को गिरफ्तार किया है। आरोपित युवकों कब्जे से एक लाख 97 हजार स्र्पये नकद, एक लैपटाप, चार मोबाइल और छह बैंक खाते जब्त किए गए हैं। वहीं, एक पेटीएम कार्ड और चेक बुक भी मिले हैं।

बैंक खातों में 21 लाख स्र्पये कराए गए होल्ड

एसीसीयू और तोरवा पुलिस की टीम ने जांच के बाद आरोपित युवकों के छह बैंक खातों की जानकारी मिली। इसमें 21 लाख स्र्पये से अधिक जमा है। पुलिस ने बैंक प्रबंधन से संपर्क कर बैंक खातों को होल्ड कराया है। इसके अलावा मामले में शामिल दो अन्य आरोपित की भी जानकारी मिली है। पुलिस की टीम फरार आरोपित की तलाश कर रही है।

टीम में ये रहे शामिल

शिक्षक से धोखाधड़ी की शिकायत मिलने के बाद तोरवा थाने के तत्कालीन थाना प्रभारी फैजुल होदा शाह और एसीसीयू प्रभारी निरीक्षक हरविंदर सिंह के नेतृत्व में टीम जांच कर रही थी। इस टीम में एसआइ प्रभाकर तिवारी, एसआइ अयज वारे, यूएन शांत कुमार साहू, एएसआइ विदेशी साहू, प्रधान आरक्षक अशोक कश्यप, महिला आरक्षक शकुंतला साहू, आरक्षक धर्मेंद्र साहू, दीपक यादव, हेमंत सिंह, कमलेश शर्मा व दीपक उपाध्याय शामिल रहे।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close