Atal Bihari Vajpayee University: बिलासपुर(नईदुनिया प्रतिनिधि)। आल इंडिया सर्वे आन हायर एजुकेशन(एआइएसएचई) के पोर्टल पर अटल बिहारी वाजपेयी विश्वविद्यालय से संबद्ध आधा दर्जन महाविद्यालयों ने जानकारी नहीं भेजी है। इन संस्थाओं पर अब संबद्धता समाप्त करने कार्रवाई हो सकती है। इसमें शहर के शासकीय उन्नत शिक्षा अध्ययन संस्था(आइएएसइ) व कोटा क्षेत्र के सीएसआर महाविद्यालय पीपरतराई का नाम भी शामिल है।

101 महाविद्यालयों ने पूरी की प्रक्रिया

केंद्र सरकार ने अटल विश्वविद्यालय से संबद्ध सभी 107 सरकारी, अनुदान प्राप्त और निजी महाविद्यालयों को 10 जनवरी तक पोर्टल पर डाटा अपलोड करने को कहा था। इसमें बिलसपुर, मुंगेली, पेंड्रारोड और कोरबा जिले में लगभग सभी महाविद्यालय शामिल थे। अंतिम तिथि तक 101 महाविद्यालयों ने जानकारी अपलोड कर दी। किंतु छह महाविद्यालय ने इसे गंभीरता से नहीं लिया। इसके कारण अब विश्वविद्यालय अंतिम रिमांइडर भेजेगी। इसके बाद भी जानकारी नहीं देने पर संबद्धता समाप्त की जा सकती है।

पोर्टल पर इनका देना है ब्योरा

एआइएसएचई के माध्यम से पोर्टल में सत्र 2021-22 का विस्तृत ब्योरा मांगा गया था। महाविद्यालयों में इसके लिए बकायदा नोडल अधिकारी नियुक्त किया गया है। फार्म डीसीएफ-4 व डीसीएस-6 में अल्पसंख्यक विद्यार्थियों व शिक्षकों की जानकारी भी देनी थी। इस साल पोर्टल में आंशिक बदलाव भी किया गया है। संस्थाओं को डर है कि गलत जानकारी पर कार्रवाई भी संभव है। इसलिए बच रहे हैं।

प्रमुख छह संस्थाएं शामिल

01 शासकीय उन्नत शिक्षा अध्ययन संस्था(आइएएसई) बिलासपुर

02 सीएसआर महाविद्यालय पीपरतराई, कोटा

03 बीआर साव कला एवं वाणिज्य महाविद्यालय, बेलतरा

04 शासकीय कन्या प्रशिक्षण महाविद्यालय पेंड्रारोड

05 ममतामयी मिनीमाता महाविद्यालय, लोरमी

06 वैदिक महाविद्यालय, सीपत

क्या कहता है विश्वविद्यालय प्रबंधन

संस्थाओं को ब्योरा देना अनिवार्य है। 10 जनवरी तक समय थी। छह संस्थाओं ने इस पर कोई स्र्चि नहीं ली। इसे लेकर अब इन संस्थाओं पर नियमानुसार संबद्धता रोकने की कार्रवाई की जाएगी। अंतिम रिमांडर भेजेंगे।

प्रो.जितेंद्र कुमार गुप्ता

नोडल अधिकारी, एआइएसएचई

अटल बिहरी वाजपेयी विश्वविद्यालय

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close