बिलासपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। जोनल स्टेशन के पीआरएस में आरक्षण फार्म का प्रारूप बदल गया है। बड़े साइज के इस फार्म में राष्ट्रीयता के साथ राजधानी, शताब्दी व दूरंतों में सफर के दौरान भोजन के लिए अलग कॉलम दिया गया है। इसमें यात्री हां या नहीं के साथ- साथ शाकाहारी व मांसाहारी भोजन का विकल्प चयन कर सकते हैं।

रिजर्वेशन फार्म में इन बदलावों के संबंध में रेलवे बोर्ड ने पहले ही सर्कुलर जारी कर सभी जोन मुख्यालय को निर्देश जारी कर दिए थे। दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे जोन में यह बदलाव होना था। लेकिन पुराने फार्म का स्टाक बचे होने के कारण आरक्षण केंद्र में अभी तक यात्रियों को रिजर्वेशन कराने के लिए इसी फार्म को उपलब्ध कराया जा रहा था। इससे यात्रियों को बदलाव की जानकारी नहीं थी।

अब जोनल स्टेशन स्थित आरक्षण केंद्र से यात्रियों को नए प्रारूप का फार्म देने लगे हैं। अभी जो फार्म दिया जा रहा है वह पुराने से दो गुना है। इसमें दो नए कॉलम हैं। इसके तहत नाम के बाद वाले कॉलम में राष्ट्रीयता लिखनी होगी। इसके बाद कॉलम लिंग का है।

इसमें पुरुष व महिला के अलावा ट्रांस (थर्ड जेंडर) लिखा हुआ है। अब थर्ड जेंडर यात्री भी इस कॉलम को भर सकते हैं। साथ ही साथ पांचवां कॉलम उन यात्रियों के लिए है जिनकी आयु पांच वर्ष से 12 वर्ष तक है। इसके जरिए यदि कोई अभिभावक बच्चों के टिकट में रियायत चाहता है तो उसे एनओएसबी लिखना होगा।

इसका मतलब यह होगा कि बच्चों के लिए बर्थ नहीं चाहिए। यदि बर्थ चाहिए तो रियायत का लाभ नहीं मिलेगा और उसे एक बर्थ आवंटित की जाएगी। अंतिम कॉलम में यात्रियों के लिए यह सुविधा है कि उन्हें राजधानी, दूरंतो या शताब्दी एक्सप्रेस में खाना चाहिए या नहीं। इसके जरिए वे चाहे तो हां या नहीं के अलावा शाकाहारी व मांसाहारी का विकल्प भी चयन कर सकता है।

हिंदी व अंग्रेजी एक साथ

नए फार्म का प्रारूप पहले की तरह हिंदी व अंग्रेजी में ही है। अंतर केवल इतना है कि पहले के फार्म में एक तरफ हिंदी और दूसरे तरह अंग्रेजी में फार्म भरने का विकल्प दिया जाता था। नए में दोनों भाषाओं को एक ही तरफ कर दिया गया है। हिंदी के ठीक नीचे अंग्रेजी में जानकारी है।

रियायत छो़ड़ने लगा सकते हैं निशान

आरक्षण फार्म के सबसे ऊपर मांग पत्र को सात बिंदु में कर दिया गया है। पहले यह केवल छह होते थे। नया बिंदु यह जोड़ा गया कि यदि आप वरिष्ठ नागरिक संबंधी रियायत छोड़ना चाहते हैं तो कृपया रियायती राशि का वह अंश 50 प्रतिशत या 100 प्रतिशत दर्शाना होगा। नए फार्म में पीछे का हिस्सा कोरा है।

छत्तीसगढ़ में पूर्ण शराबबंदी के लिए कवायद, विधायकों की समिति की पहली बैठक

VIDEO : रायपुर के मनोज ने मिनटों में पलट दी कार, इसे देख चाैंक गए लोग