बिलासपुर। राज्य सरकार ने प्रदेशभर के धान के प्रमाणिक बीज उत्पादक किसानों को जोर का झटका दिया है। बाजार व बैंक से कर्ज लेकर बीज उत्पन्न करने वाले किसानों को यह पहली बार होगा जब समर्थन मूल्य से कम कीमत पर अपना धान बेचना पड़ेगा । राज्य निर्माण के बाद 19 वर्षों में यह पहला मौका है जब सरकार ने समर्थन मूल्य से प्रमाणिक बीज की कीमत को घटा दिया है। प्रति क्विंटल 350 रुपये का घाटा किसानों को सहना पड़ेगा ।

किसानों की कर्ज माफी और समर्थन मूल्य में बढ़ोतरी के सहारे प्रदेश की सत्ता में काबिज होने के साथ ही कांग्रेस सरकार ने किसानों को जोर का झटका दिया है। प्रदेशभर की जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के माध्यम से 2500 रुपये प्रति क्विंटल पर किसानों की धान खरीदी का कार्य हाल ही में राज्य सरकार ने किया है।

ऐसा कर किसानों के बीच जमकर वाहवाही भी लूटी। वर्ष 2019-20 में खरीफ फसल के तहत धान का उत्पादन करने वाले किसानों का धान समर्थन मूल्य पर खरीदी की तैयारी में मार्कफेड के अधिकारियों व जिला सहकारी केंद्रीय बैंक की मशक्कत शुरू हो गई है।

किसानों को उच्च क्वालिटी का धान बीज उपलब्ध कराने के लिए बीज निगम को तैयारी करने के निर्देश भी मिल गया है। इसी बीच राज्य शासन ने प्रमाणिक बीज खरीदी का नया रेट तय कर दिया है। बीज निगम द्वारा इस वर्ष खरीफ फसल के लिए किसानों से प्रमाणिक बीज की खरीदी के लिए प्रति क्विंटल 2150 रुपये कीमत निर्धारित किया है।

राज्य निर्माण के 19 वर्षों में यह पहली बार हुआ है जब राज्य शासन ने समर्थन मूल्य से कम कीमत पर प्रमाणिक बीज खरीदने का फैसला किया है। जाहिर है इससे बीज उत्पादक किसानों को भारी नुकसान उठाना पड़ेगा ।

बीज उत्पादक किसान इस आस में थे कि समर्थन मूल्य में भारी बढ़ोतरी के बाद प्रमाणिक बीज खरीदी के लिए राज्य शासन समर्थन मूल्य से अधिक का दर निर्धारित करेगा। पर ऐसा नहीं हुआ । शासन के इस निर्णय के चलते बीज उत्पादक किसानों को बीज निगम को धान बेचने के एवज में प्रति क्विंटल 350 रुपये का नुकसान उठाना पड़ेगा ।

समर्थन मूल्य से अधिक कीमत पर खरीदते रहे हैं प्रमाणिक बीज

राज्य निर्माण के बाद राज्य शासन ने प्रमाणिक बीज के लिए कीमत निर्धारित करते वक्त समर्थन मूल्य को ध्यान में रखा जाता था। समर्थन मूल्य से अधिक की दर तय की जाती थी। वर्ष 2018-19 में समर्थन मूल्य प्रति क्विंटल 1750 रुपये तय किया था। तब प्रमाणिक बीज खरीदी के लिए प्रति क्विंटल दर 2100 रुपये तय की गई थी। तब किसानों को प्रति क्विंटल 350 रुपये का फायदा मिलता है। इस बार प्रति क्विंटल 350 रुपये का झटका किसानों को लगेगा ।

2006-07 में तीन गुना था समर्थन मूल्य

वर्ष 2006-07 में समर्थन मूल्य से प्रमाणिक बीज के लिए प्रति क्विंटल जो दर तय की गई थी वह तीन गुना से भी ज्यादा था। तब बीज उत्पादक किसानों को जमकर फायदा मिला था।

- प्रमाणिक बीज खरीदी के लिए राज्य शासन ने समर्थन मूल्य निर्धारित कर दिया है। तय मापदंड व निर्देशों के तहत ही खरीदी की जाएगी। - अनिल कौशिक-सहायक संचालक,कृषि

Posted By: Nai Dunia News Network