बिलासपुर, नईदुनिया प्रतिनिधि। Bilaspur News : नवनिर्वाचित सांसदों के नाम बैंक खाता खुलेगा। इसी बैंक अकाउंट में केंद्र सरकार द्वारा सांसद निधि की राशि जमा की जाएगी। खाते में राशि जमा होने के बाद आहरण का अधिकार इनको नहीं रहेगा। राशि आहरण संबंधित विभाग के अधिकारी करेंगे । माननीयों को सिर्फ अपने संसदीय क्षेत्र में विकास कार्य कराने के लिए अनुशंसा करने का अधिकार दिया गया है।

बिलासपुर संभाग के अंतर्गत बिलासपुर,जांजगीर - चांपा, कोरबा व रायगढ़ लोकसभा क्षेत्र को शामिल किया गया है। चारों लोकसभा क्षेत्र से निर्वाचित सांसदों की समानता ये कि सभी पहली बार निर्वाचित होकर दिल्ली पहुंचे हैं। लिहाजा जिला योजना एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा इनके नाम से नया बैंक अकाउंट खोला जाएगा। बैंक खाता नवनिर्वाचित सांसदों के नाम से खुलेगा ।

बैंक अकाउंट खोलने के बाद खाता नंबर केंद्र सरकार के हवाले किया जाएगा। इसी नंबर के जरिए केंद्र सरकार द्वारा सांसद निधि की राशि जमा कराई जाएगी। सांसदों के खाते में जमा की जाने वाली राशि आहरण का अधिकार सांसदों को नहीं दिया गया है। बैंक खाते से राशि आहरण कलेक्टर के निर्देश पर जिला योजना मंडल के अधिकारी द्वारा किया जाता है।

कार्य पूर्णता के बाद निर्माण एजेंसी को योजना मंडल के जरिए भुगतान किया जाता है। मालूम हो कि केंद्र सरकार द्वारा सांसदों को अपने संसदीय क्षेत्र में विकास कार्य कराने के लिए प्रतिवर्ष सांसद निधि के रूप में पांच करोड़ रुपये दिया जाता है। यह राशि बैंक में एकमुश्त जमा कराने के बजाय केंद्र सरकार द्वारा किश्त में राशि जमा की जाती है। इसी आधार पर जिला योजना एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा सांसदों द्वारा किए गए अनुशंसा के आधार पर कार्य कराया जाता है।

तकनीकी स्वीकृति के बाद जारी होता है वर्कआर्डर

सांसद द्वारा विकास कार्य के लिए किए जाने वाले अनुशंसा पत्र का जिला योजना एवं सांख्यिकी विभाग द्वारा तकनीकी स्वीकृति ली जाती है। जिन कार्यों की तकनीकी स्वीकृति मिलती है संबंधित निर्माण एजेंसी को वर्कआर्डर जारी किया जाता है। कार्य पूर्ण होने के बाद पूर्णता प्रमाण पत्र जमा किया जाता है। इसी आधार पर योजना मंडल द्वारा निर्माण एजेंसी को राशि का भुगतान किया जाता है।

दो लोकसभा का क्षेत्र दो जिलों में

संभाग के अंतर्गत आने वाले बिलासपुर व जांजगीर लोकसभा का क्षेत्र दो जिलों में बंटा हुआ है। बिलासपुर लोकसभा के अंतर्गत दो जिला ही आता है। बिलासपुर व मुंगेली । लिहाजा सांसद से योजना मंडल द्वारा राय ली जाएगी कि वे नोडल जिला किसे बनाना चाहते हैं। गृहजिला मुंगेली या फिर बिलासपुर । कोरबा लोकसभा क्षेत्र भी दो जिलों में बंटा हुआ है। बिलासपुर जिले के अंतर्गत आने वाला मरवाही विधानसभा कोरबा लोकसभा क्षेत्र में शामिल है। लिहाजा मरवाही विधानसभा क्षेत्र के ग्रामीण इलाकों के विकास के लिए कोरबा सांसद श्रीमती महंत द्वारा की जाने वाली अनुशंसा पर बिलासपुर जिला योजना मंडल द्वारा विकास कार्य किया जाएगा ।

ये हैं संभाग के नवनिर्वाचित सांसद

बिलासपुर लोकसभा-अरुण साव

जांजगीर लोकसभा-गुहाराम अजगले

कोरबा लोकसभा- ज्योत्सना महंत

रायगढ़ लोकसभा-गोमती साय

केंद्र सरकार के मापदंडों के आधार पर कार्य किया जाता है। तय गाइड लाइन के अनुसार ही विकास कार्य को मंजूरी देने से उसे पूर्ण कराया जाता है। -सुरेश कश्यप - जिला योजना एवं सांख्यिकी अधिकारी