बिलासपुर। Bilaspur Crime News: बेलगहना चौकी क्षेत्र में रहने वाली दो युवतियों को स्वास्थ्य और शिक्षा विभाग में नौकरी दिलाने का झांसा देकर दो लाख 60 हजार की धोखाधड़ी का मामला सामने आया है। युवतियों ने इसकी शिकायत बेलगहना चौकी में की है। इस पर पुलिस जुर्म दर्ज कर मामले की जांच कर रही है। बेलगहना क्षेत्र के सोनसाय नवागांव में रहने वाली शांति उईके बेरोजगार हैं। नर्सिंग की पढ़ाई के बाद वे घर में ही रहती हैं। सितंबर 2021 में वे अंकसूची का पंजीयन कराने के लिए रोजगार कार्यालय गई थीं। वहां पर उनकी मुलाकात गौरेला-पेंड्रा-मरवाही जिले के पीथमपुर में रहने वाले नैलूपुरी उर्फ राहुल मरावी उर्फ नवल सोनवानी से हुई।

जान-पहचान के बाद युवक ने उन्हें बताया कि उसकी कलेक्टर आफिस, रोजगार कार्यालय और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों से जान-पहचान है। उसने बताया कि स्र्पये देने पर स्वास्थ्य विभाग में नौकरी लग सकती है। उसने युवती का मोबाइल नंबर भी ले लिया। 30 सितंबर की दोपहर युवक ने उन्हें फोन कर दारसागर मोड़ के पास बुलाया। साथ ही एक लाख स्र्पये लेकर आने के लिए कहा। इस पर युवती अपने भाई सहदेव उईके के साथ वहां पहुंची। युवक ने उन्हें नियमित चिकित्सा अधिकारी के भर्ती हेतू पात्र-अपात्र की सूची दी। इसमें शांति का नाम दूसरे नंबर पर था। इसे देख शांति ने युवक को एक लाख स्र्पये दे दिए।

इसके बाद 12 अक्टूबर को उसने फोन 80 हजार स्र्पये और मांगे। शांति ने युवक को अपने घर बुलाकर और स्र्पये दे दिए। दो महीने तक नौकरी नहीं लगने पर युवती मुख्य चिकित्सा अधिकारी के कार्यालय पहुंची। यहां पता चला कि विभाग में कोई वैकेंसी ही नहीं निकली है। इस पर युवती ने अपने स्र्पये वापस मांगना शुरू कर दिया। बाद में पता चला कि युवक ने मिट्ठू नवागांव में रहने वाली ममता पाव से शिक्षा विभाग नौकरी लगवाने के लिए 80 हजार स्र्पये लिए हैं। दोनों ने इसकी शिकायत बेलगहना चौकी में की है। इस पर पुलिस धोखाधड़ी का मामला दर्ज कर जांच कर रही है।

Posted By: Abrak Akrosh

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close