बिलासपुर। रेलवे में नौकरी दिलवाने का झांसा देकर दो युवकों से सात लाख स्र्पये की धोखाधड़ी करने के आरोपित को तोरवा पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसके कब्जे से एक लाख स्र्पये, लैपटाप, मोबाइल, एटीएम कार्ड जब्त किया गया है। पुलिस ने आरोपित को न्यायिक रिमांड पर भेज दिया है। तोरवा थाना क्षेत्र के हेमुनगर के रहने वाले भरत यादव और प्रकाश यादव ने ठगी की रिपोर्ट दर्ज कराई थी। इसमें बताया कि आशीष पात्रो निवासी रायगढ़ ने रेलवे में नौकरी लगाने के नाम पर उनसे सात लाख 90 हजार रुपये लिए थे। नौकरी नहीं मिलने पर उन्होंने स्र्पये वापस मांगे।

आशीष स्र्पये भी नहीं लौटा रहा है।पीड़ितों की शिकायत पर पुलिस ने धोखाधड़ी के तहत अपराध दर्ज किया था। अपराध दर्ज होने के बाद आरोपित आशीष पात्रो फरार हो गया था। पुलिस की टीम खोजबीन में जुटी थी। इसी दौरान पुलिस को सूचना मिली कि आरोपित आशीष हुलिया बदलकर ओडिशा और रायगढ़ में ठिकाना बदल-बदल कर रह रहा है। एसपी के निर्देश पर आरोपित को पकड़ने के लिए टीम रवाना की गई। खोजबीन में पता चला कि आरोपित आशीष रायगढ़ के ग्रामीण इलाके में किराया के मकान में रहता है। पुलिस टीम ने घेराबंदी कर उसे गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में आरोपित ने अपराध करना कबूल किया है।

गांजा बेचने के लिए ग्राहक ढूंढ रहा युवक गिरफ्तार

बिलासपुर। गांजा बेचने के लिए ग्राहक ढूंढ रहे युवक को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। उसके कब्जे से आठ सौ ग्राम गांजा जब्त किया गया है। आरोपित के खिलाफ एनडीपीएस एक्ट के तहत कार्रवाई की है। शुक्रवार को कोटा पुलिस को मुखबिर से सूचना मिली कि ग्राम पिपरतराई सागौन प्लाट के पास एक युवक गांजा बेचने के लिए ग्राहक खोज रहा है। सूचना पर पुलिस मौके पर पहुंची और घेराबंदी कर राकेश वर्मा निवासी बेलटुकरी को गिरफ्तार किया। तलाशी लेने पर उसके कब्जे से अलग-अलग पुड़िया में आठ सौ ग्राम गांजा जब्त किया गया है। जिसकी कीमत पांच हजार स्र्पये बताई जा रही है।

Posted By: Yogeshwar Sharma

NaiDunia Local
NaiDunia Local
  • Font Size
  • Close